मुख्यपृष्ठनए समाचारसिटीजन रिपोर्टर: माथेरान का मजा कहीं बन न जाए सजा! नेरल में...

सिटीजन रिपोर्टर: माथेरान का मजा कहीं बन न जाए सजा! नेरल में खुले चैंबर ने बढ़ाई चिंता

देश के प्रसिद्ध हिल स्टेशनों में से एक माथेरान में घूमने रोजाना हजारों की संख्या में सैलानी आते हैं। शनिवार,  रविवार और अन्य छुट्टियों के दिन तो सैलानियों की संख्या काफी बढ़ जाती है। यहां जाने के लिए लोग नेरल स्टेशन पूर्व से प्राइवेट शेयरिंग कार में गांव के बीच से गुजरते मुख्य सड़क मार्ग से जाते हैं। नेरल पूर्व के रहिवासी जो नौकरी या अन्य कार्य के लिए ट्रेन से आवागमन करते हैं वे लोग भी इसी सड़क से होकर गुजरते हैं। इस सड़क के बगल में शौचालय भी है, जिसका इस्तेमाल कई लोग करते हैं। लेकिन इस सड़क पर खांडा पादचारी पुल के पास पाइपलाइन के लिए निर्मित चैंबर का ढक्कन ही नहीं है और यह इसी तरह खुला पड़ा है। ऐसे में किसी बड़े हादसे की संभावना को नकारा नहीं जा सकता। `दोपहर का सामना’ की सिटीजन रिपोर्टर मनीषा जोशी ने इस खुले चैंबर से लोगों को हो रही परेशानियों का जायजा लिया।
बता दें कि नेरल ग्राम पंचायत के अंतर्गत खांडा गांव के बीच गुजरनेवाली मुख्य सड़क से रोजाना हजारों की संख्या में लोग आते-जाते हैं, यहां के स्थानीय लोग भी इसी सड़क का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन इस खुले चैंबर की किसी को बिल्कुल चिंता नहीं है। इसे देखकर लगता है कि यह कई दिनों से इसी तरह खुला हुआ है। बता दें कि इसके बगल में शौचालय है, जिसका स्थानीय लोग इस्तेमाल करते हैं। इस शौचालय के लिए पानी की पाइपलाइन इस खुले चैंबर में से गई दिखाई देती है। इसका अर्थ यह है कि प्रशासन को इसकी जानकारी है लेकिन इसे ढंकने की किसी को चिंता नहीं है। इस खुले चैंबर के बगल से कई वाहन गुजरते हैं, जिसमें बच्चे, महिलाएं, बुजुर्ग बैठे होते हैं, यदि वाहन का टायर इसमें गया तो पूरी गाड़ी पलट सकती है और माथेरान के लिए निकले सैलानियों का मजा सजा में बदल सकता है।
मनीषा ने बताया कि उन्होंने जब एक वाहन चालक से पूछा कि आप लोगों को डर नहीं लगता तो उस पर जवाब मिला कि हम लोगों को इसकी आदत हो गई है। उन्होंने नेरल ग्रामपंचायत के किसी सदस्य से प्रतिक्रिया लेनी चाही लेकिन संपर्क नहीं हो सका।

अन्य समाचार