मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनासिटीजन रिपोर्टर: मेट्रो के काम ने बढ़ाई परेशानी, सड़क पर पानी ही...

सिटीजन रिपोर्टर: मेट्रो के काम ने बढ़ाई परेशानी, सड़क पर पानी ही पानी!

इन दिनों महानगर मुंबई और मुंबईकर तेज धूप से परेशान हैं। मानसून का मौसम चल रहा है और बारिश का कहीं अता-पता ही नहीं है। यूं तो मुंबई में बारिश की वजह से कई बार आपने मायानगरी मुंबई को पानी-पानी होते हुए देखा ही होगा। लेकिन इस बार मुंबई की सड़कों पर पाना मानसून की वजह से नहीं बल्कि मेट्रो के काम के चलते भरा है।
गौरतलब है कि मेट्रो के काम के चलते पानी भरने का एक मामला हाल ही में देखने को मिला। मेट्रो टू बी का जो काम कुर्ला सिग्नल के पास शुरू है उसमें से पानी बाहर आता है और सड़कों पर भर जाता है, जिससे वहां से आने-जानेवाले वाले लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।
बता दें कि कुर्ला से सायन और घाटकोपर की तरफ जाने का यह मुख्य रास्ता है। इस रास्ते पर मेट्रो का काम शुरू है, यह मेट्रो डीएन नगर से मानखुर्द मंडाला तक जाने वाली है। इस समय कुर्ला सिग्नल के पास इसका काम चल रहा है। इस काम के बीच में से पानी की एक धार सड़क पर आ रही है। मुख्य सड़क होने की वजह से यहां लोगों की काफी भीड़ होती है। यह पानी दोनों तरफ बेरिकेट होने के कारण जमा हो जाता है, जिससे भीड़ को चलने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। गाड़ियां भी धीमी रफ्तार से चलती हैं, जिस वजह से ट्रैफिक जाम भी देखने को मिलता है। `दोपहर का सामना’ की सिटीजन रिपोर्टर संध्या श्रीवास्तव के अनुसार, रोजाना यह दिक्कत आती है। इस सड़क पर ऐसा माहौल हो जाता है जैसे की बारिश आई हो। स्थानीय वत्सलाताई नगर के लोगों ने इस समस्या को हल करने की मांग की है।
वडाला की भी यही कहानी
ऐसा ही एक और उदाहरण कोकरी आगार बस डिपो वडाला-भिवंडी मेट्रो स्टेशन के पास देखने को मिला। यहां भी मेट्रो के पिलर के काम के दौरान निकलनेवाला पानी सीधा सड़क पर छोड़ा जा रहा था। कोकरी आगार बस डिपो के गेट के पास ही यह पानी छोड़ा जा रहा था, जिससे यहां से निकलने वाली बस की वजह से कीचड़ चारों ओर फैल गया था। आने-जानेवाले बाइक सवारों को उनकी बाइक स्लिप हो जाने का डर सता रहा है। सुबह जब लोग अपने दफ्तर के लिए निकले थे, तब यह वाकया देखने को मिला। इसलिए यहां पर गाड़ियों की धीमी कतार के चलते ट्रैफिक भी देखने को मिला। स्थानीय लोगों ने कहा कि प्रशासन को इसका कोई इंतजाम करना चाहिए। पानी निकलनेवाली मशीन का पाइप आउटलेट किसी नाले में छोड़ना चाहिए अथवा ड्रेनेज लाइन में छोड़ना चाहिए, इससे रास्ते पर पानी नहीं गिरेगा और किसी को कोई तकलीफ भी नहीं होगी। इस मामले को लेकर स्थानीय निवासी बहुत जल्द ही एक लिखित शिकायत मेट्रो प्रशासन से करने वाले हैं।

अन्य समाचार

लालमलाल!