मुख्यपृष्ठनए समाचारसिटीजन रिपोर्टर : सेफ नहीं हैं सड़कें, ओवरस्पीड कहीं लगा न दे...

सिटीजन रिपोर्टर : सेफ नहीं हैं सड़कें, ओवरस्पीड कहीं लगा न दे जिंदगी पर ब्रेक!

शिवडी-चेंबूर लिंक रोड पर हो सकता है बड़ा हादसा
आणिक-पंचशील नगर नाले पर नहीं है सुरक्षा दीवार
सड़क हादसे दुनियाभर में और विशेष रूप से हिंदुस्थान में काफी लोगों की जिंदगी पर हमेशा के लिए ब्रेक लगा देते हैं। तेज गति से वाहन चलाने वाले व अपनी या सामने वाले की लापरवाही के कारण लोग अक्सर सड़क दुर्घटना का शिकार हो जाते हैं। कई बार प्रशासन की लापरवाही और समय पर सड़कों की मरम्मत न करवाना ऐसे हादसों को दावत देते हैं। मुंबई के बंदरगाह क्षेत्र में सामान पहुंचाने और वडाला-शिवड़ी-माहुल के रिफाइनरी से तेल भरने के लिए बड़े पैमाने पर दूर-दराज क्षेत्रों से ट्रक, कंटेनर और टैंकर यहां पहुंचते हैं। इसके लिए ये सभी वाहन शिवड़ी-चेंबूर लिंक रोड का इस्तेमाल करती हैं। इस सड़क के सबसे संकरे भाग यानी आणिक डिपो के पास स्थित सीएनजी पंप और पंचशील नगर सिग्नल के किनारे मौजूद बड़े नाले पर कोई सुरक्षा दीवार नहीं है, जिससे कभी कोई हादसा हो सकता है। `दोपहर का सामना’ के सिटीजन रिपोर्टर तानाजी घाग इस मामले को सामने लाए हैं। इसे लेकर वह जल्द ही प्रशासन को पत्र लिखने वाले हैं।
गौरतलब हो कि चूनाभट्टी स्थित वसंतदादा पाटिल प्रतिष्ठान से लेकर मुंबई पोर्ट ट्रस्ट तक की लगभग साढ़े तेरह किलोमीटर लंबी सड़क हमेशा वाहनों से भरी रहती है। यह सड़क ईस्टर्न प्रâी वे से होते हुए सीधे दक्षिण मुंबई और कोलाबा तक कनेक्ट होने की वजह से भी कार और टैक्सी से लोग इसी रास्ते से गुजरते हैं। वैसे तो यह सड़क सभी जगह चौड़ी है लेकिन आणिक डिपो के पास स्थित सीएनजी पंप और पंचशील नगर सिग्नल पर यह काफी संकरी है, इसलिए यहां बॉटल नेक तैयार हो जाता है। ठीक सिग्नल पर इस सड़क के नीचे से सोमैया नाला गुजरता है, जिसमें इन दिनों बारिश का पानी भरा रहता है। इस नाले की गहराई भी अधिक है।

सड़क हादसों में अव्वल है मुंबई
एक सरकारी आंक़ड़ों के अनुसार, साल २०२२ में राज्य में हुए सड़क हादसों में १५ हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई है। महाराष्ट्र पुलिस ने रोड एक्सीडेंट से जुड़े आंकड़ों की एक रिपोर्ट साझा की थी। साल २०२२ में राज्य में हुए सड़क हादसों में १५ हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई है। प्रदेश में जनवरी २०२३ से अप्रैल २०२३ यानी साल के पहले चार महीनों में ४,९२२ लोगों की सड़क हादसे में मौत हुई है। वहीं ६,८४५ लोग चार महीने में घायल हुए हैं। महाराष्ट्र में २०२० में ११,५६९ लोगों ने सड़क हादसे में जान गंवाई थी। जबकि, २०२१ में १३,५२८ लोगों की सड़क हादसों में मौत हुई थी।

अन्य समाचार

लालमलाल!