मुख्यपृष्ठखबरेंसिटीजन रिपोर्टर : फुटपाथ पर वाहन पार्किंग प्रशासन मौन

सिटीजन रिपोर्टर : फुटपाथ पर वाहन पार्किंग प्रशासन मौन

महाराष्ट्र सरकार और मुंबई मनपा द्वारा मुंबई के फुटपाथों के सौंदर्यीकरण के लिए करोड़ों रुपए का फंड आवंटित किया गया है। इसी कड़ी में कुर्ला के ‘एल’ वॉर्ड और घाटकोपर के ‘एन’ वॉर्ड के अंतर्गत आनेवाले एलबीएस मार्ग पर लंबा-चौड़ा फुटपाथ है। यह फुटपाथ चिराग नगर पुलिस स्टेशन से शुरू होकर कमानी के नाज होटल तक है। इस फुटपाथ के बगल में नेवी की रिहायशी इमारतें हैं तथा इसके बगल में एक बड़ा सा नाला है। ‘दोपहर का सामना’ के सिटीजन रिपोर्टर पवन कुमार पाठक इस समस्या को प्रकाश में लाए हैं।
पवन कुमार पाठक ने बताया कि घाटकोपर (प.) के चिराग नगर मधुबन टोयटा के सामने से एलबीएस मार्ग पर नाज होटल के पास नेवी आर्मी दीवार से लगकर ‘एल’ वॉर्ड कुर्ला मनपा द्वारा सौंदर्यीकरण के नाम पर ९ करोड़ रुपए खर्च करके लगभग १८ फुट चौड़ा फुटपाथ बनाया गया है, लेकिन आज वहां पार्किंग माफियाओं की वजह से आम जनता उसका लाभ नहीं ले पा रही है। यह फुटपाथ बुजुर्गों, बच्चों और महिलाओं को वॉकिंग करने के लिए बनाया गया है। इस फुटपाथ पर जगह-जगह बेंच लगाई गई हैं, जिस पर नागरिक बैठकर आराम कर सकते हैं। इसके अलावा सुंदर वृक्ष और फूलों के पौधे भी लगाए गए हैं, ताकि लोगों को एक अच्छा पर्यावरण और ताजी हवा प्राप्त हो सके, लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि इस फुटपाथ पर अवैध रूप से ट्रक और डंपिंग माफियाओं ने कब्जा कर लिया है। फुटपाथ पर बड़ी संख्या में सैकड़ों की तादाद में ट्रक और डंपर पार्क किए जाते हैं। फुटपाथ पर कब्जा करनेवाले लोग अपराधी किस्म के लोग हैं। इसके अलावा फुटपाथ पर शाम होते ही शराबी और ड्रग्स का सेवन करनेवाले नशेड़ी बैठ जाते हैं, जिसकी वजह से आम जनता वहां जाने से भी कतराती है। घाटकोपर की चिराग नगर पुलिस फुटपाथ पर नशा कर रहे ऐसे लोगों के खिलाफ कोई भी कार्रवाई नहीं करती है, जिसकी वजह से ऐसे नशाखोरों के हौसले बुलंद हैं तथा पार्विंâग माफिया जनता की जमीन पर कब्जा कर उससे लाखों रुपए प्रति महीने कमा रहे हैं। फुटपाथ पर कब्जे का यह सिलसिला पिछले ४ वर्षों से अनवरत जारी है, जिसे तमाम शिकायतों के बावजूद खाली नहीं कराया जा सका है।
सोचने वाली बात है कि स्थानीय पुलिस, ट्रैफिक कंट्रोल, ट्रैफिक हेल्पलाइन एवं मनपा के मरम्मत विभाग को कई बार शिकायत देने के बाद भी एक किलोमीटर लंबा फुटपाथ आज ४ वर्ष से ट्रक, डंपर माफियाओं का गैराज और पार्विंâग का अड्डा बन गया है। बताया जाता है कि ये पार्विंâग मफिया कोई साधारण लोग नहीं हैं ये लोग सजायाफ्ता मुजरिम हैं तथा जेल काटकर आए हैं। जब कोई पुलिस या शिकायतकर्ता इनकी शिकायत करता है तो ये लोग फर्जी संस्थाओं के माध्यम से अपराधियों का ड्राइवर गैंग बनाकर उस प्रशासनिक बाबू या शिकायतकर्ता पर उल्टा हफ्ता वसूली, प्रताड़ना की शिकायत करने लगते हैं, जिसकी वजह से बड़े किसी भ्रष्टाचारी ऑफिसर के आशीर्वाद से यह ९ करोड़ रुपए का फुटपाथ आज खंडहर बन गया है। सौंदर्यीकरण की जगह यहां हर तरफ गंदगी की भरमार हो गई है। आखिरकार, वॉर्ड-१६४ में नगरसेवक हरीश भादिरगे के फंड से बना यह फुटपाथ आज मनपा मरम्मत विभाग की देख-रेख की बजाय माफियाओं के कब्जे में है। बताया जाता है कि प्रशासन की अनदेखी से एलबीएस मार्ग का यह १८ फुट चौड़ा फुटपाथ माफियाओं का पार्किंग अड्डा बन गया है। ऐसे में कई बार घाटकोपर पुलिस को शिकायत देने के बाद भी यहां कार्रवाई नाममात्र की भी नहीं होती है।

अन्य समाचार