मुख्यपृष्ठखेलक्लीन बेल्ड : इस खिलाड़ी के बाद कोई नहीं

क्लीन बेल्ड : इस खिलाड़ी के बाद कोई नहीं

अमिताभ श्रीवास्तव

टेनिस में रोजर फेडरर, राफेल नडाल और जेकोविच का प्रभुत्व रहा है। फेडरर और नडाल टेनिस कोर्ट से दूर हो गए तो जेकोविच ही अकेले शहंशाह रह गए। उनकी सत्ता को भंग करनेवाला टेनिस जगत में फिलहाल कोई नहीं है, जो लगातार अपना दबदबा बनाकर रखता हो। पुरुष टेनिस की यह अफसोसजनक बात है कि जेकोविच के बाद ऐसा कोई खिलाड़ी नहीं है, जो लगातार जीतने का माद्दा रखता हो। पिछली बार जब अल्कराज ने जेकोविच को हराया था तो बाद में एटीपी में जेकोविच ने अल्कराज को हराकर बाहर कर दिया था। यानी अल्कराज में स्थायित्व नहीं है। यही हुआ यूएस ओपन में भी जब मेदवेदेव ने अल्कराज को हराकर बाहर कर दिया। इधर जेकोविच शेल्टन को हराकर १०वीं बार यूएस ओपन के फाइनल में पहुंच गए और कोई बड़ा चमत्कार नहीं होता है तो फाइनल जेकोविच को जीतने से भी कोई रोक नहीं सकता। आज होगा फाइनल। टेनिस में जेकोविच के बाद जो कोई नए नाम गूंजे वो अल्कराज और मेदवेदेव के ही हैं। मगर दोनों में जेकोविच जैसे खिलाड़ी को हराने की काबिलियत कम ही है। यानी वैसा रोमांच नहीं दिखता जैसा फेडरर, नडाल से भिड़ते हुए जेकोविच के मैचों में दिखता है तो यह कहना सही है कि जेकोविच के बाद कोई नहीं जो टेनिस पर सतत राज करे।

निकाह ही निकाह
एक बार निकाह हो गया, दूसरी बार फिर से निकाह करना है। ऐसे में सोचने में यही आएगा कि तलाक हो गया होगा तो दूसरी किसी से निकाह किया जा रहा होगा। मगर ऐसा नहीं है, जिससे पहले निकाह हुआ उसी से दूसरी बार निकाह किया जा रहा है, पर ऐसा कर कौन रहा है? ऐसा पाकिस्तान का सबसे तेज गेंदबाज शाहीन अफरीदी करनेवाला है। उसका निकाह शाहिद अफरीदी की बेटी से हुआ था। मगर अब फिर से वो निकाह करनेवाला है। जी हां, एशिया कप के बाद शाहीन अफरीदी दूसरा निकाह करने जा रहे हैं। ज्ञात हो कि शाहीन शाह अफरीदी ने सात महीने पहले ही पूर्व खिलाड़ी शाहिद अफरीदी की बेटी से निकाह किया था, अब वे एशिया कप-२०२३ के फाइनल के बाद १९ सितंबर को फिर से कराची में निकाह करेंगे। यानी एशिया कप-२०२३ के तहत १७ सितंबर को खेले जानेवाले फाइनल के बाद १९ सितंबर को वो फिर से कराची में निकाह करेंगे। इसके बाद इस्लामाबाद में २१ सितंबर को वलीमा सेयरमनी होगी। यह सब इसलिए कि पहले ससुर की वजह से ज्यादा लोग नहीं आए। अब दावत दी जाएगी।

रिजर्व डे क्यों?
टीम इंडिया बनाम पाकिस्तान के बीच यदि आज मैच नहीं हो पाता है तो रिजर्व डे रखा गया है, मतलब वो कल खेला जाएगा। जो रिजर्व डे इन दोनों टीमो के लिए है, वो किसी अन्य मैच के लिए नहीं है। क्यों नहीं है? और इन्हीं दोनों के बीच रिजर्व डे क्यों रखा गया? ये ज्यादा सोचनेवाली बात भी नहीं है। भले ही बांग्लादेश, श्रीलंका जैसे देश इस नियम की आलोचना कर रहे हों। दरअसल, एशिया कप में कौन-सी टीमें हैं, जिन्हें विश्व स्तर पर खेलते हुए लोग देखना पसंद करेंगे? क्रिकेट के जरिए कौन से देश है, जिनकी भिड़ंत सबसे गर्म और पैसा उगाही वाली रहती है? रोमांच के नाम पर दो देशों के बिगड़े राजनीतिक संबंधों के नाम पर पैसा बटोरने वाले भी यही दो देश हैं। इसीलिए रखा गया है रिजर्व डे। बाकी किसी टीम के लिए नहीं रखा गया। हालांकि, यह नियमों के खिलाफ है। ऐसा नहीं होना चाहिए था। रिजर्व डे या तो नहीं रखा जाता। रखना भी था तो सभी टीमों पर यह लागू किया जाना चाहिए था। क्या टीम इंडिया पाकिस्तान के मध्य मैच में ही बारिश की संभावना है? ऐसा दोगला रवैया अपने आप में हास्यास्पद बन गया है, पर जो बना दिया गया वो बन गया। अब तो ऐसा ही होगा यदि बारिश से मैच रदद् हो जाता है तो।

(लेखक वरिष्ठ खेल पत्रकार व टिप्पणीकार हैं।)

अन्य समाचार