मुख्यपृष्ठखेलक्लीन बोल्ड : ससुराल का कोच बनूंगा

क्लीन बोल्ड : ससुराल का कोच बनूंगा

अमिताभ श्रीवास्तव

अब भला ससुराल का कोच कौन बनेगा? अपने पूर्व पाकिस्तानी खिलाड़ी वसीम अकरम बनेंगे और क्या! जी हां, अपने वतन के नहीं, बल्कि दूसरे वतन का कोच बनाना चाहेंगे अकरम। दरअसल, वसीम से पूछा गया कि आप पाकिस्तान के कोच बनना पसंद करेंगे या फिर ऑस्ट्रेलिया के लिए कोचिंग करना। इस सवाल पर वसीम ने सीधे तौर पर जवाब दिया और पाकिस्तान के पैंâस को चौंकाते हुए ऑस्ट्रेलिया का नाम लिया। स्विंग ऑफ सुल्तान के नाम से विख्यात वसीम ने अपने इस जवाब को लेकर आगे बात की और कहा, ‘अगर मुझे विकल्प मिलता है तो मैं ऑस्ट्रेलिया को चुनूंगा, मेरी पत्नी की वजह से नहीं, बल्कि इसलिए कि दबाव कम होगा और मैं अपना काम खुले तौर पर कर पाउंगा।’ बता दें कि वसीम अकरम की दूसरी वाइफ का नाम शनीरा थॉम्पसन है, जो ऑस्ट्रेलिया से ही हैं।
कोई लौटा दे मेरी बैगी ग्रीन
यह सचमुच अफसोसजनक है कि करियर का आखिरी मैच खेलना है और उसकी यादगार वैâप चोरी हो जाए। जी हां, सिडनी में डेविड वॉर्नर अपने टेस्ट करियर का आखिरी टेस्ट मैच खेलेंगे। आखिरी टेस्ट मैच से पहले वॉर्नर को तगड़ा झटका लगा है। दरअसल, वॉर्नर की टेस्ट कैप ‘बैगी ग्रीन’ चोरी हो गई है, जिसके बाद क्रिकेटर ने सोशल मीडिया पर वीडियो शेयर कर लोगों से कैप को लौटाने की अपील भी की है। वॉर्नर का सामानों से भरा एक बैग गायब हो गया है, जिसमें उनका टेस्ट कैप ‘बैगी ग्रीन’ भी रखा हुआ था। ऐसे में वॉर्नर ने सोशल मीडिया इंस्टाग्राम पर वीडियो शेयर किया और टेस्ट कैप को लौटाने की अपील भी की है। वॉर्नर ने वीडियो शेयर कर लिखा, ‘दुर्भाग्य से ऐसा करना मेरा आखिरी उपाय है। दुर्भाग्य से किसी ने सामान से मेरा बैग निकाल लिया है, जिसमें मेरा कैप और मेरे बच्चों के लिए गिफ्ट थे। यह मेरे लिए भावुक क्षण है, यह कुछ ऐसा है, जिसे मैं वापस अपने हाथों में लेना पसंद करूंगा। यही बैकपैक है, जो आप वास्तव में चाहते थे तो मेरे पास यहां एक अतिरिक्त बैग है। आप किसी परेशानी में नहीं पड़ेंगे। अगर आप मेरी कैप लौटा दें तो मुझे यह आपको देने में खुशी होगी। वॉर्नर ने आगे ये भी कहा कि वह बैकपैक जिसमें दो बैगी ग्रीन कैप थे, वापस आएंगे, मुझे इसकी उम्मीद है।’
जज्बा हो तो ऐसा
यह जज्बे का ही कमाल है कि दुर्घटना के बाद वापस उठना और फिट होकर लौटना अब पहला टेस्ट मैच अपने ही होम ग्राउंड पर खेलना यह सबसे सुखद स्थिति होती है। आठ बरस पहले प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पदार्पण करने वाले २१ वर्ष के डेविड बेडिंगहम की आंखों में कई सपने थे, लेकिन एक भयावह कार दुर्घटना ने उन्हें एक साल के लिए खेल से दूर कर दिया। इसके बावजूद उनके सपने नहीं टूटे थे और न ही उन्होंने हालात से समझौता किया। देश के लिए क्रिकेट खेलने की ललक उन्हें फिर मैदान पर ले आई और प्रथम श्रेणी क्रिकेट में ८९ मैचों में ६,००० रन बनाने के बाद सेंचुरियन में पिछले सप्ताह हिंदुस्थान के खिलाफ दक्षिण अफ्रीका टीम में उन्होंने पदार्पण किया। अब वह अपने शहर केपटाउन में पहला टेस्ट खेलने जा रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘मैं रन बनाऊं या नहीं, मेरे परिवार या दोस्तों को इससे फर्क नहीं पड़ेगा। मेरे लिए इस मैदान पर खेलना ही खास होगा।’

अन्य समाचार