मुख्यपृष्ठखेलक्लीन बोल्ड : कायला के सब कायल

क्लीन बोल्ड : कायला के सब कायल

अमिताभ श्रीवास्तव

दुनिया की सबसे सुंदर वॉलीबॉल खिलाड़ी के रूप में उसे पहचाना जाता है। फ्लोरिडा में जन्मी २७ साल की है अभी वो। वॉलीबॉल के अलावा मॉडलिंग और सोशल मीडिया की सनसनी भी है वो। नाम है कायला सिमन्स। इंस्टाग्राम पर अपनी हॉट तस्वीरें पोस्ट करने वाली कायला के यूं तो सब कायल हैं मगर उसके परिधान पहनने के मामले में खूब आलोचना भी करते हैं लोग। कायला स्कूल और कॉलेज स्तर पर वॉलीबॉल खेलने के अलावा वह एक मॉडल भी है। अपने वॉलीबॉल करियर को लेकर कायला कहती हैं, `एक पूर्व कॉलेज एथलीट होने और खेलों के इर्द-गिर्द बड़े होने ने मुझे खुद को एक सीमा तक धकेलना सिखाया है। कॉलेज एथलेटिक्स मेरे लिए एक शानदार अनुभव था, लेकिन इसने मुझे कुछ मूल्यवान सबक भी सिखाए हैं।’ कायला बताती हैं कि सोशल मीडिया पर अपनी तस्वीरों को लेकर उन्हें कई बार आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ा। उन्हें अपने इंस्टाग्राम को डिलीट करने के लिए कहा गया। इस तरह की टिप्पणियों से वे परेशान हो गई थीं लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और मजबूती के साथ अपने आलोचकों का सामना किया।

दोस्ती हो तो ऐसी
अर्जुन तेंदुलकर और पृथ्वी शॉ बचपन के दोस्त हैं। दोनों टीम इंडिया में शामिल होने के लिए मेहनत कर रहे हैं। पृथ्वी शॉ फॉर्म की तलाश में इंग्लैंड पहुंचे थे। रॉयल लंदन वनडे कप में दो बड़े शतक लगा दिए थे। मगर चार मैच बाद ही किस्मत ने एक-बार फिर दगा दे दी। फील्डिंग के दौरान अपना घुटना इंजर्ड करवा बैठे पृथ्वी न सिर्फ टूर्नामेंट से बाहर हो गए बल्कि अगले कुछ महीने मैदान से भी दूर रहेंगे। पर्सनल कारणों से विवादों में चल रहे पृथ्वी के लिए यह खबर किसी झटके से कम नहीं थी। ऐसे में अब उनके बचपन के दोस्त और सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर ने दिल जीत लेने वाला पोस्ट किया है। अर्जुन ने सोशल मीडिया पर पृथ्वी शॉ के साथ अपनी बचपन की एक तस्वीर शेयर की है और अपने दोस्त का हौसला बढ़ाया है। अर्जुन तेंदुलकर ने पृथ्वी शॉ के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हुए इंस्टा स्टोरी पर लिखा,`मजबूत बने रहो दोस्त, तुम्हारे शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।’

स्टार सुंदरियों की आखिरी टक्कर
पिछले महीने की २० तारीख से शुरू हुआ फीफा महिला फुटबॉल विश्वकप का आयोजन अब अपने आखिरी पायदान पर जा पहुंचा है। कल २० अगस्त को फाइनल है। इस फाइनल में दो स्टार सुंदरियों की टक्कर भी होगी। यह पहली बार है जब स्पेन और इंग्लैंड की टीम फाइनल में पहुंची है। स्पेन की ओर से कप्तान ओल्गा कर्मोना और इंग्लैंड की तरफ से कप्तान मिली ब्राइट के बीच टक्कर है। बचपन में जो निमोनिया की शिकार हुई थी। अस्थमा की मरीज रही वो आज इंग्लैंड की टीम को संभाल रही है। मिली ब्राइट को इंग्लैंड की सनसनी कहा जाता है तो स्पेन की ओल्गा की वजह से फाइनल में आई टीम को भी कम नहीं समझा जाता। ओल्गा अपनी टीम के लिए मजबूत नेतृत्व क्षमता वाली खिलाड़ी है। कल दोनों आमने सामने होंगी। मिली ब्राइट सोशल मीडिया पर काफी ज्यादा एक्टिव रहती हैं। वह आए दिन कोई फोटो या वीडियो शेयर करती रहती हैं।

अन्य समाचार