मुख्यपृष्ठखेलक्लीन बोल्ड : लेडी धोनी

क्लीन बोल्ड : लेडी धोनी

अमिताभ श्रीवास्तव

कप्तानों में महेंद्र सिंह धोनी का नाम खूब मशहूर है। उनकी टीम सदस्यों के साथ खेल भावना भी अक्सर सराही जाती रही है। उनके संन्यास के बाद उनकी याद यदि किसी ने दिलवाई है तो वो है टीम इंडिया की कप्तान हरमनप्रीत। उन्हें लेडी धोनी भी कहा जाने लगा है। दरअसल, टीम इंडिया महिला टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच जीतने के बाद कुछ ऐसा किया, जिससे पूर्व हिंदुस्थानी पुरुष क्रिकेट टीम के कप्तान एमएस धोनी की याद आ गई। जीत के बाद जब उन्हें ट्रॉफी सौंपी गई तो उन्होंने टीम की युवा प्लेयर ऋचा घोष को ट्रॉफी थमा दी। बिल्कुल ऐसा ही महेंद्र सिंह धोनी भी करते थे। वो अपने साथियों को ट्रॉफी थमा देते थे। ये देख लोग उन्हें लेडी धोनी कहने लगे हैं। वैसे भी ये लगातार दो टेस्ट सीरीज जीतने वाली कप्तान हैं। इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया। दोनों टीमों को लगातार अभी तक किसी देश की टीम ने नहीं हराया था।

जोर का झटका धीरे से लगा
हालांकि, यह बड़ी हार है और उस टीम की जो विश्व क्रिकेट में अपना दबदबा रखती है तथा टीम इंडिया जैसी टीमों को हराने की हरसंभव जुगत में रहती है। इसके बावजूद उसका कहना है कि ये कोई झटका नहीं है। दरअसल, यह जोर का झटका है जो धीरे से लगा है। ऑस्ट्रेलिया की महिला क्रिकेट टीम की कप्तान एलिसा हीली ने अपनी पराजय के बाद कहा कि एकमात्र टेस्ट में टीम इंडिया के खिलाफ उनकी टीम की पहली हार कोई झटका नहीं है और अगले साल बांग्लादेश में होने वाला टी-२० विश्वकप जीतना उनका लक्ष्य है। हिंदुस्थानी महिला टीम ने एकमात्र टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया की मजबूत टीम पर ऐतिहासिक पहली जीत दर्ज की और २८ वर्षों में टेस्ट क्रिकेट के अपने पहले ‘घरेलू सत्र’ का शानदार अंत किया। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ११ टेस्ट में यह हमारी पहली जीत है। जब एलिसा से पूछा गया कि अपने दबदबे वाले रिकॉर्ड को ध्यान में रखते हुए वो इस हार को कैसे देखती हैं तो उन्होंने मीडिया से कहा, ‘शायद यह एक झटका नहीं है। यह एक ऐसा प्रारूप है, जहां हम परिस्थितियों से अधिक परिचित नहीं हैं।’

गूंगा पहलवान का भी धोबी पछाड़
यह धोबी पछाड़ ही है। जब सरकारें सुन न रही हों, तब ऐसे ही दांव को आजमाया जाता है। बजरंग पूनिया ने अपना पद्म पुरस्कार लौटाया ही था कि केंद्र सरकार ने पहल करते हुए कुश्ती संघ को भंग कर दिया। हालांकि, बजरंग ने कहा है कि वो अपना लौटाया हुआ पद्मश्री पुरस्कार वापिस नहीं लेंगे। इधर ये सब चल ही रहा है तो उधर गूंगा पहलवान ने भी दांव खेल दिया है। गूंगा पहलवान के नाम से फेमस पहलवान वीरेंद्र सिंह ने साक्षी मलिक का समर्थन किया है। उन्होंने ट्वीट कर पद्मश्री लौटाने का एलान करते हुए उसे सचिन तेंदुलकर और नीरज चोपड़ा को भी टैग किया है। गूंगा पहलवान ने ट्वीट किया कि मैं अपनी बहन और देश की बेटी के लिए पद्मश्री भी लौटा दूंगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी, मुझे आपकी बेटी और मेरी बहन साक्षी मलिक पर गर्व है, लेकिन मैं देश के शीर्ष खिलाड़ियों से भी अनुरोध करूंगा कि वे अपना निर्णय भी दें। `गूंगा पहलवान’ के रूप में पहचाने जाने वाले वीरेंद्र सिंह ने एक्स पर इस पोस्ट में सचिन तेंदुलकर और नीरज चोपड़ा को टैग भी किया है।

(लेखक वरिष्ठ खेल पत्रकार व टिप्पणीकार हैं।)

अन्य समाचार