मुख्यपृष्ठखेलक्लीन बोल्ड : शूटिंग की सनसनी

क्लीन बोल्ड : शूटिंग की सनसनी

अमिताभ श्रीवास्तव

निशानेबाजी में हिंदुस्थान की वो नई सनसनी है। नाम है ईशा सिंह, जिन्होंने विश्व चैंपियनशिप में गोल्ड मैडल जीतकर देश का नाम ऊंचा किया। पूत के पांव पालने में नजर आ जाते हैं यह कहावत ईशा चरितार्थ करती है। बचपन से ही शूटिंग की दीवानी ईशा २०१८ में १० मीटर एयर पिस्टल वर्ग में राष्ट्रीय चैंपियन बनीं। उन्होंने २०१९ में जर्मनी के सुहल में जूनियर विश्व कप में रजत पदक जीता, १० मीटर एयर पिस्टल महिला (एपी६०डब्लू) में एशियाई जूनियर चैंपियनशिप में दो स्वर्ण पदक जीते। १० मीटर एयर पिस्टल मिश्रित टीम १० मीटर एयर पिस्टल के अलावा, वह २५ मीटर स्टैंडर्ड पिस्टल और २५ मीटर पिस्टल स्पर्धाओं में भी भाग लेती हैं। अब शिवा नरवाल के साथ मिलकर अजरबेजान के बाकू में आईएसएसएफ विश्व चैंपियनशिप की १० मीटर एयर पिस्टल मिश्रित टीम स्पर्धा का स्वर्ण पदक जीतकर ईशा ने हिंदुस्थानी खेमे को खुश कर दिया है। इंस्टा पर ईशा बहुत सक्रिय हैं। वो एक मॉडल के रूप में भी पहचानी जाती हैं पर मॉडलिंग करती नहीं हैं।

स्क्वाश की नन्हीं क्वीन
स्क्वाश में कभी दीपिका पल्लीकल जैसी खूबसूरत खिलाड़ी के परचम से हिंदुस्थान को जाना जाता था मगर अब एक नन्हीं के कमाल ने देश का गौरव बढ़ाया है। उसे नन्हीं क्वीन पुकारा जाने लगा है। जी हां, हिंदुस्थान की अनाहत सिंह ने यहां १६ से २० अगस्त तक हुई एशियाई जूनियर स्क्वाश व्यक्तिगत चैंपियनशिप के अंडर-१७ वर्ग में स्वर्ण पदक जीता। पंद्रह साल ही अनाहत ने रविवार को हुए फाइनल में हांगकांग की एना क्वोंग को ३-१ से हराकर स्वर्ण पदक अपने नाम किया। अनाहत ने क्वार्टर फाइनल और सेमीफाइनल में मलेशियाई खिलाड़ियों क्रमश: डॉयस ली और विटनी इसाबेल को हराया था। पिछले साल थाईलैंड में दिल्ली की अनाहत ने इस प्रतियोगिता का अपना पहला स्वर्ण पदक जीता था। अनाहत ने २०१९ में मकाऊ में अंडर-१३ वर्ग में भी कांस्य पदक जीता था। अनाहत बर्मिंघम २०२२ राष्ट्रमंडल खेलों में भी भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं। वह १४ साल की उम्र में इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाली सबसे युवा हिंदुस्थानी खिलाड़ी थीं।

`किस’ पर मच गया बवाल
फीफा महिला विश्व कप फुटबॉल की ट्रॉफी स्पेन ने इंग्लैंड को हराकर चूमी, मगर इस बीच चूमने के एक अलग मामले में बवाल मच गया। दरअसल, हुआ ये कि एक ओर जहां स्पेनिश टीम जश्न में डूबी थी तो एक ऐसी शर्मनाक घटना घटी, जिससे पूरी दुनिया हैरान रह गई। स्पेन की स्ट्राइकर जेनी हर्मोसो को स्पेनिश एफए अध्यक्ष लुईस रुबियल्स ने जश्न के दौरान एक नहीं, ३ बार होठों पर किस किया। इससे पूरी दुनिया गुस्से में है। वहीं, खिलाड़ी ने कहा, `मैं असहाय हूं, क्या करूं। यह घटना उस वक्त घटी जब महिला खिलाड़ी पोडियम पर मेडल लेने के बाद आगे बढ़ रही थीं। वहां मौजूद स्पेनिश एफए अध्यक्ष लुईस रुबियल्स ने स्पेन की स्ट्राइकर जेनी हर्मोसो से मिलते ही गले लगा लिया। हालांकि, यह थोड़ा अजीब दिख रहा है क्योंकि वह महिला खिलाड़ी को लगभग दबोचते दिख रहे हैं। इसके बाद सिर को दोनों हाथों से पकड़कर जबरदस्ती किस किया। लुईस सिर्फ यहीं नहीं रुके, जबरदस्त ३ बार किस करने के बाद पीठ के निचले हिस्से पर हाथ मारते दिखे। सोशल मीडिया पर लोग इसका भयंकर विरोध जता रहे हैं। एक यूजर ने लिखा कि मुझे नहीं लगता है कि यह सहमति से हुआ है। यह बेहद शर्मनाक है।
(लेखक वरिष्ठ खेल पत्रकार व टिप्पणीकार हैं।)

अन्य समाचार