मुख्यपृष्ठखेलक्लीन बोल्ड : दर्शकों को रोकना भी गलत है

क्लीन बोल्ड : दर्शकों को रोकना भी गलत है

अमिताभ श्रीवास्तव

आखिर वैâसे कोई अपने आदेश से दर्शकों को रोक सकता है? दर्शक आखिर मैच देखते क्यों हैं? उनकी भावनाओं को आखिर कौन देख-समझ पाता है? उन्हें क्या समझ रखा है? माजरा समझने लायक है। हार्दिक पंड्या की हूटिंग क्यों हो रही है, यह सब जानते हैं। उनके भी पैंâस क्यों दुखी हैं, ये भी सब जानते हैं। आईपीएल जैसा आयोजन क्यों सफल है, ये भी दर्शकों के कारण है। कोई टीम या कोई खिलाड़ी क्यों पसंद किया जाता है क्या दर्शकों के बिना समझा जा सकता है? फिर आखिर दर्शकों की ही क्यों अनदेखी की जा रही है और उन्हें क्यों आदेश देकर बोला जा रहा कि ऐसा करो, वैसा करो। वे क्या मानने वाले हैं? संजय मांजरेकर ने हार्दिक के पक्ष में तालियां बजाने का आदेश दिया मगर दर्शक नहीं मानें। हार्दिक की पिछले मैच में भी जमकर हूटिंगबाजी हुई। अब इसमें गलती किसकी है क्या टीम प्रबंधन को नहीं सोचना चाहिए? बात पराजय की हो सकती है मगर दर्शकों को नहीं रोका जा सकता क्योंकि वो मैच इसलिए नहीं देखते कि उनसे जैसा चाहो वैसा व्यवहार करवा दो। वो मैच अपनी पसंद के लिए देखते हैं और इस बार मुंबई इंडियन्स में उन्हें ऐसा कुछ नहीं दिखा है।
टेनिस का बब्बर शेर
वह अब तक शेर तो था ही मगर अब बब्बर शेर बनने वाला है। जी हां, सर्बिया के ३६ साल और ३२१ दिन के दिग्गज टेनिस खिलाड़ी नोवाक जोकोविच इस सप्ताह के अंत तक एटीपी रैंकिंग इतिहास में सबसे उम्रदराज नंबर १ के रूप में स्विस दिग्गज रोजर फेडरर का रिकॉर्ड तोड़ देंगे। नोवाक जोकोविच टेनिस जगत के दिग्गजों में गिने जाते हैं। पिछले साल फरवरी में, जोकोविच ने स्टेफी ग्राफ के ३७७ सप्ताह के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ते हुए किसी पुरुष या महिला टेनिस खिलाड़ी द्वारा विश्व नंबर १ के रूप में सबसे अधिक सप्ताह बिताने का रिकॉर्ड बनाया था। जोकोविच पहली बार ४ जुलाई २०११ को २४ साल की उम्र में विश्व नंबर १ बने थे। जबकि फेडरर और राफेल नडाल २२ साल की उम्र में पहली बार नंबर १ पर पहुंचे थे। टेनिस जगत के ये तीन बड़े नाम हमेशा एक दूसरे को चुनौती देते आए हैं। पहली बार विश्व नंबर १ बनने के लगभग १३ साल तक जोकोविच ने अपने करियर का एक बड़ा हिस्सा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के साथ ऊंचाइयों पर बिताया है।
क्यों रो रहे गिल?
सोशल मीडिया पर शुभमन गिल ने दो फोटो पोस्ट किए तो लोगों को देखकर हैरानी हुई कि आखिर क्या हो गया उन्हें जो उनकी बहन समझा रही है, गिल को रोने से रोक रही है। मामला दिलचस्प है, वो भी इसलिए क्योंकि अप्रैल फूल अभी-अभी गया है। दरअसल, गिल ने अप्रैल फूल डे मनाया है इसलिए उन्होंने ये फोटो पोस्ट किए, जिसमें पहले फोटो में तो गिल हंसते हुए नजर आ रहे हैं और उनकी बहन उन्हें पकड़ते हुए कि क्या हुआ? मगर दूसरे फोटो में अचानक गिल रोते हुए नजर आ रहे हैं और उनकी बहन उन्हें गले लगाते हुए पुचकारते हुए कि भाई चुप हो जा, कुछ नहीं हुआ है। पोस्ट पर गिल ने लिखा भी ज्यादा कुछ नहीं है सिर्फ यही कि सेलिब्रेटिंग यू टुडे और डॉट्स लगाते हुए नीचे लिखा है हैप्पी अप्रैल फूल डे। तो बात क्लीयर हुई न? गुजरात के कप्तान शुभमन गिल हालांकि फार्म में नहीं आ पाए हैं, किंतु सोशल मीडिया पर वो हमेशा फार्म में रहते हैं।

(लेखक वरिष्ठ खेल पत्रकार व टिप्पणीकार हैं।)

अन्य समाचार