मुख्यपृष्ठखेलक्लीन बोल्ड : कौन विराट?

क्लीन बोल्ड : कौन विराट?

अमिताभ श्रीवास्तव

विराट कोहली विश्व के ख्यातिप्राप्त क्रिकेटर हैं। इसका मतलब हर कोई उन्हें जानता हो, ऐसा नहीं है। अब देखिए न, फुटबाल के पूर्व बादशाह नजारियो रोनाल्डो ने साफ इनकार कर दिया कि वो विराट कोहली को नहीं जानते। कौन विराट? दरअसल, अमेरिका के मशहूर यूट्यूबर स्पीड ने २००२ फीफा वर्ल्डकप के `गोल्डन बूट’ रोनाल्डो से पूछा क्या आप विराट कोहली को जानते हैं? इस पर रोनाल्डो ने कहा, `कौन? इसके बाद स्पीड ने उन्हें बताया कि विराट कोहली इंडिया से हैं। इस पर फिर से रोनाल्डो ने कहा, `ये कौन है, मैं नहीं जानता।’ इस पर स्पीड ने फिर कहा, `आप विराट कोहली को नहीं जानते? तो रोनाल्डो ने कहा, `वो कौन हैं? खिलाड़ी हैं कोई?’ इस पर स्पीड ने कहा, `जी हां! वे एक क्रिकेटर हैं।’ इस पर रोनाल्डो ने कहा, `मैं नहीं जानता वो यहां लोकप्रिय नहीं हैं।’ इस पर स्पीड ने चौंकते हुए कहा, `अरे, वो बेस्ट हैं। बाबर आजम से भी बेहतर हैं।’ इसके बाद स्पीड ने उन्हें विराट कोहली की तस्वीर दिखाई। फिर पूछा, `आपने इस आदमी को कभी नहीं देखा?’ तब रोनाल्डो ने उन्हें पहचाना और कहा, `हां, देखा है।’

विकेट के पीछे का ध्रुव
कौन है विकेट के पीछे का ध्रुव? जिसने ईशान किशन का भी पत्ता काटा और अब भविष्य में के एल राहुल और भरत के लिए भी संकट बन सकता है? दरअसल, चयन समिति ने अचानक एक अनवैâप्ड खिलाड़ी को टीम इंडिया में शामिल कर लिया, जो इंग्लैंड के खिलाफ खेलेगा। जी हां, बीसीसीआई ने इंग्‍लैंड के खिलाफ २५ जनवरी से शुरू होने जा रही ५ टेस्‍ट मैचों की सीरीज के पहले दो टेस्‍ट के लिए १६ सदस्‍यीय टीम इंडिया का एलान किया। इस लिस्‍ट में सबसे चौंकाने वाला नाम अनवैâप्‍ड क्रिकेटर ध्रुव जुरेल का है, जिन्‍हें घरेलू क्रिकेट में लगातार शानदार प्रदर्शन का इनाम दिया गया है। यूपी के आगरा के रहने वाले ध्रुव जुरेल के पिता नेम सिंह जुरेल फौजी रह चुके हैं। इसके साथ ही वो कारगिल युद्ध भी लड़ चुके हैं। नेम सिंह जुरेल चाहते थे कि उनका बेटा ध्रुव भी फौजी बनकर देश की सेवा करे। इसी वजह से वो ध्रुव को नेशनल डिफेंस एकेडमी में भेजना चाहते थे। साथ ही ध्रुव भी देश के लिए कुछ करना चाहते थे, लेकिन फौजी नहीं, बल्कि क्रिकेटर बनकर। नेम सिंह ने बताया कि ध्रुव के पैâसले पर किसी को कोई आपत्ति नहीं थी। ये अलग क्षेत्र है और इसमें रहकर भी देश की सेवा कर सकते हैं।

बातचीत भी बंद
अब जब कप्तान बदल दिया जाएगा, जूनियर को सिर पर चढ़ा लिया जाएगा तो सीनियर क्यों उसे सलाम करेगा? ऐसा ही कुछ हो रहा है पाकिस्तानी टीम में। बाबर आजम को हटा कर शाहीन आफरीदी को कप्तान बनाया गया। ऑस्ट्रेलिया से बुरी तरह पिट गर्इं पाकिस्तानी टीम, अब न्यूजीलैंड धो रहा है। इधर बाबर को आफरीदी भाव नहीं दे रहे तो बाबर भी चुप हो गए हैं। बातचीत बंद कर दी है। टीम पहले ही खस्ताहाल थी, अब और दयनीय हो गई है। ऑकलैंड के ईडन पार्क में जब पाकिस्तान की टीम न्यूजीलैंड से पहला टी-२० मुकाबला ४६ रन से हारी तो हार की बजाय सबसे ज्यादा चर्चा शाहीन अफरीदी और बाबर आजम के आपसी व्यवहार को लेकर हुई। उक्त मामले पर पाकिस्तान के एक वरिष्ठ पत्रकार ने दावा किया कि पाकिस्तान की बड़ी हार की वजह शाहीन अफरीदी और बाबर आजम थे, जिन्होंने फील्डिंग के दौरान एक-दूसरे से बात तक नहीं की। दावा किया गया कि टीम बिखरी नजर आ रही है। खिलाड़ी एकजुट नहीं दिखे। टीम टूटे हुए घर की तरह दिख रही थी।

(लेखक वरिष्ठ खेल पत्रकार व टिप्पणीकार हैं।)

अन्य समाचार