मुख्यपृष्ठखबरेंराज्य की प्रगति रखें कायम! मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का अधिकारियों से आह्वान

राज्य की प्रगति रखें कायम! मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का अधिकारियों से आह्वान

 १८ प्रशासनिक अधिकारियों को दिए गए पुरस्कार
 महाराष्ट्र की वित्तीय स्थिति है सबसे अच्छी
सामना संवाददाता / मुंबई। लालफीताशाही और दफ्तरी लेटलतीफी जैसे शब्दों को सरहद से बाहर फेंककर आम जनता के कल्याण के लिए काम करें और राज्य की प्रगति की ‘गति’ को बनाए रखें। यह आह्वान कल मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य के अधिकारियों और कर्मचारियों को किया। उन्होंने कहा कि प्रशासन में कार्य करते समय अनेक कठिनाई और चुनौतियां आती हैं। लेकिन उसे स्वीकार कर नियमों के दायरे में रहते हुए जो जनता के लिए काम करता है, उसे ही सुशासन कहते हैं।
सह्याद्रि अतिथि गृह में कल नागरी सेवा दिन कार्यक्रम २०२२ का आयोजन किया गया, जिसमें मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के हाथों राजीव गांधी प्रशासनिक गति अभियान के तहत १८ पुरस्कारों का वितरण किया गया। राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात, वस्त्रोद्योग मंत्री असलम शेख, सांसद अरविंद सावंत, मुख्य सचिव मनु कुमार श्रीवास्तव, सामान्य प्रशासन विभाग के अपर मुख्य सचिव डॉ. संजय चाहंदे के साथ राज्य भर के पुरस्कार विजेता अधिकारी और कर्मचारी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर अपनी जान जोखिम में डालकर और अपने परिवारों से दूर रहकर कोविड काल में सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा किए गए कार्यों की सराहना की। उन्होंने कहा कि जब राज्य के हमारे प्यारे मुख्यमंत्री के रूप में मेरा जिक्र होता है, तो उसका असली श्रेय इस प्रशासनिक व्यवस्था में समर्पण के साथ काम करनेवाले अधिकारियों और कर्मचारियों को जाता है।
मेरा परिवार समझदार
मुख्यमंत्री ने कहा कि हम राजनेता सपने दिखानेवाले लोग हैं लेकिन उसे साकार करना प्रशासन पर निर्भर है। मेरा मानना है कि जब आम आदमी की आंखों से दुख के आंसू पोंछे जाएं और उसकी आंखों में खुशी के आंसू आएं तो प्रशासन अच्छा काम कर रहा है। कोरोना और किसान कर्ज माफी का उदाहरण देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारा प्रशासन सुलभता से काम कर रहा है। मेरे परिवार के सभी सदस्य समझदार हैं, इसलिए मेरा अपने परिवार को संभाल पाना संभव हो रहा है।
किसानों के हित में कई योजनाएं
नए निरीक्षण का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि महाराष्ट्र उन राज्यों में से एक है, जिसकी वित्तीय स्थिति सबसे अच्छी है। जिन राज्यों की सकल आय में अच्छी वृद्धि हो रही है, उसमें महाराष्ट्र शामिल है। यह सब प्रशासन के साथियों ने ही संभव कर दिखाया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार किसानों को अपने पैरों पर स्थायी रूप से खड़ा करने का प्रयास कर रही है और इसके लिए राज्य सरकार द्वारा कृषि और किसानों के हित में कई महत्वाकांक्षी योजनाएं लागू की जा रही हैं।
नवीनतम उपक्रम योजना को फ्लैगशिप योजना के रूप में लागू किया जाए -बालासाहेब थोरात
इस अवसर पर राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात ने कहा कि प्रशासन में सुगमता, गति और पारदर्शिता होनी चाहिए। गति लाने के लिए समय के साथ प्रशासन में बदलाव किए जाते हैं। अभिनव पहलों को पूरे राज्य में लागू किया जाना चाहिए। राजस्व अभियानों के तहत राज्य भर में कई योजनाएं लागू की जाती हैं। नवीनतम उपक्रम योजना को फ्लैगशिप योजना के रूप में लागू किया जाना चाहिए।
इन्हें मिले पुरस्कार
मंत्रालय के प्रशासनिक स्तर पर खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के सचिव विजय वाघमारे को प्रोत्साहन पुरस्कार मिला। राज्य के सभी मुख्यालय कार्यालयों से सीधे आनेवाले प्रस्ताव की श्रेणी में प्रथम पुरस्कार दीपेंद्र सिंह कुशवाहा (सीईओ, महाराष्ट्र स्टेट इनोवेशन सोसाइटी, मुंबई) को दस लाख रुपए, सम्मानचिह्न व प्रशस्तिपत्र, द्वितीय पुरस्कार राहुल द्विवेदी (परियोजना निदेशक, नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी परियोजना) को छह लाख रुपए, सम्मानचिह्न व प्रशस्तिपत्र और तृतीय पुरस्कार राधाकृष्ण गमे (संभागीय आयुक्त, संभागीय आयुक्त कार्यालय, नासिक) को चार लाख रुपए, सम्मानचिह्न व प्रशस्तिपत्र देकर मुख्यमंत्री ने सम्मानित किया। इसी तरह अन्य पुरस्कारों का वितरण भी मुख्यमंत्री के हाथों किया गया।
मीरा-भायंदर मनपा को मिला तीसरा स्थान
सेवा गारंटी अधिनियम के तहत नागरिकों को ४८ प्रकार की विभिन्न सेवाएं प्रदान करने में मीरा-भायंदर मनपा को राज्य में तीसरा स्थान प्राप्त हुआ। इस उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए मुख्यमंत्री ने मनपा आयुक्त दिलीप ढोले को सम्मानित किया। मुख्यमंत्री के हाथों मनपा आयुक्त दिलीप ढोले को ४ लाख रुपए, सम्मानचिह्न व प्रशस्तिपत्र देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर मनपा उपायुक्त मारुति गायकवाड़ और संजय शिंदे भी उपस्थित थे।

अन्य समाचार