मुख्यपृष्ठनए समाचारभरण और भ्रमण ‘गैस’ पर... महंगी होती सीएनजी-पीएनजी ने तोड़ी आम आदमी...

भरण और भ्रमण ‘गैस’ पर… महंगी होती सीएनजी-पीएनजी ने तोड़ी आम आदमी की कमर

पंकज तिवारी / मुंबई
केंद्र की मोदी सरकार के राज में अब आम लोगों के भरण और ‘भ्रमण’ पर भी आफत आ गई है। यह सब सीएनजी, पीएनजी और एलपीजी की बढ़ती कीमतों के कारण है। एलपीजी और पीएनजी जैसे घरेलू गैस के कारण भरण-पोषण यानी रसोई का बजट बिगड़ गया है, वहीं सीएनजी की महंगाई के कारण अब ‘भ्रमण’ करना महंगा हो गया है। सीएनजी के महंगे होने से रिक्शा व टैक्सी चालकों में काफी रोष व्याप्त है।
गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने कल एक बार फिर सीएनजी और पीएनजी की कीमतों में बढ़ोतरी की थी। सीएनजी में जहां ६ रुपए की वृद्धि की गई वहीं पीएनजी में ४ रुपए की वृद्धि की गई। देखा जाए तो इस वर्ष पिछले सात महीने में पीएनजी के भाव में जहां १३ रुपए की वृद्धि हो चुकी है, वहीं सीएनजी के भाव में ३६ रुपए की भारी-भरकम वृद्धि हो चुकी है। इसी तरह एलपीजी में १५३ रुपए बढ़ चुके हैं। मुंबई सेंट्रल में रहनेवाली गृहिणी आरती वाघेला का कहना है कि कुकिंग गैस ने किचन का पूरा बजट बिगाड़ दिया है। इसी तरह ठाणे में रहनेवाली हाउस वाइफ दीपा सावले का कहना है कि समझ में नहीं आ रहा कि हर रोज की बढ़ती महंगाई में बच्चों का भरण-पोषण वैâसे करें? उपनगरों में बड़ी संख्या में ऑटोरिक्शा चलते हैं। ऑटोचालक सीएनजी भरने के लिए प्रतिदिन कम से कम ३०० से ३५० रुपए खर्च करते हैं।
सीएनजी महंगी हो जाने से इस महंगाई में उनकी कमाई आधी हो गई है। इससे उनका व्यवसाय संकट में आ गया है।
ऑटोचालक अविनाश मोरे का कहना है कि आधी से ज्यादा आय सीएनजी पर खर्च हो जाती है तो वे जीवन-यापन वैâसे करेंगे? ऑटो चालक दिनेश वनवासी का कहना है कि सरकार किराया नहीं बढ़ा रही, जिससे मुंबई महानगरीय क्षेत्र में रिक्शा चलाकर काम करनेवाले हजारों परिवारों की रोजी-रोटी संकट में आ गई है। अंबरनाथ के रहनेवाले गौरव लोंधे काम के सिलसिले में वाशी जाते हैं। उन्हें एक दिन में एक चक्कर के लिए २,५०० रुपए सीएनजी पर खर्च करने पड़ते हैं। ट्रैफिक जाम की स्थिति में यह लागत और बढ़ जाती है। उनका कहना है कि बार- बार सीएनजी के दाम बढ़ने से आर्थिक गणित गड़बड़ा रहा है। इसी तरह ठाणे के टैक्सी चालक अरविंद तिवारी का कहना है कि पूरा सीएनजी टैंक दिनभर में खाली हो जाता है। रोजाना ७०० से ८०० रुपए की कमाई होती है, जिसमें से ३००-४०० रुपए सीएनजी पर खर्च होते हैं। ऐसे में बच्चों को वैâसे पढ़ाया जाए और घर कैसे चलाया जाए?

७ महीने में भाव बढ़े
 सीएनजी – ₹३६.६०
 पीएनजी – ₹१३.००
 एलपीजी – ₹१५३

अन्य समाचार