मुख्यपृष्ठनए समाचारठंडी ने बढ़ाई देशी अंडों की डिमांड, उत्पादन में आई गिरावट 

ठंडी ने बढ़ाई देशी अंडों की डिमांड, उत्पादन में आई गिरावट 

सामना संवाददाता/ मुंबई

महानगर मुंबई में ठंडी का असर देखने को मिल रहा है। जनवरी माह के शुरूआती सप्ताह में यहां पारा गिर गया है। इसलिए शरीर को ऊर्जा देने वाले पौष्टिक खाद्य सामग्रियों की मांग बढ़ गई है। देशी अंडों की मुंबई इलाके में काफी मांग है। ग्रामीण इलाकों में देशी मुर्गी पालन में गिरावट का असर अब अंडे की कीमतों पर पड़ रहा है।
बता दें कड़ाके की ठंड के चलते कई लोग देशी अंडे जैसे खाद्य पदार्थों का सेवन जमकर करते हैं, जो शरीर के लिए पौष्टिक होते हैं। इस दौरान देशी मुर्गियों के अंडों की मांग अधिक रहती है। महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों मेेंं मुर्गी पालन में पहले की तुलना में गिरावट की वजह से देशी अंडे के उत्पादन में कमी आई है और उसकी कीमतें बढ़ गई हैं। फिलहाल, गांव के देशी अंडों की कीमत १८० से २०० रुपये प्रति दर्जन है। जोरदार मांग के कारण अंडा व्यवसायी उन घरों में चक्कर लगा रहे हैं, जहां मुर्गी पालन किया जाता है। दिलचस्प बात यह है कि देशी मुर्गियों के अंडे के लिए ग्रामीण इलाकों के साथ-साथ आदिवासी बस्तियों में जा रहे हैं। लेकिन मुर्गियों का रख-रखाव ठीक से न होने से राज्य में मुर्गी पालन व्यवसाय में काफी कमी आई है। वातावरण में ठंडी बढ़ने के कारण देशी अंडे की अच्छी मांग होने से एक अंडा १८ से २२ रुपए का मिल रहा है। देशी अंडे में प्राकृतिक विटामिन्स होते हैं। इसलिए इस दौरान इसका सेवन अधिक पौष्टिक माना जाता है।

अन्य समाचार