मुख्यपृष्ठनए समाचारसर्दी नहीं सताएगी!

सर्दी नहीं सताएगी!

सामना संवाददाता / नई दिल्ली

आईएमडी का अनुमान, सामान्य से ऊपर रहेगा तापमान, अल नीनो की वजह से सर्दी में होगी गर्मी

मौसम विभाग का अनुमान है कि इस बार की सर्दी नहीं सताएगी। दिसंबर-फरवरी के लिए अपने आउटलुक में आईएमडी ने न्यूनतम तापमान सामान्य से ऊपर रहने का अनुमान जताया है। यानी अगले तीन महीनों के दौरान दिन के समय सामान्य से ज्यादा गर्मी महसूस होगी। आईएमडी ने कहा कि शीतलहर वाले दिनों की संख्या भी नॉर्मल से कम रहेगी। उनका यह अनुमान अल नीनो वाले साल से मेल खाता है। अमूमन अल नीनो वाले साल में भारत में सर्दियों के सीजन में नॉर्मल से ज्यादा गर्मी होती है।
आईएमडी ने कहा है कि देश के अधिकांश हिस्सों में अधिकतम तापमान सामान्य से ऊपर रहने की संभावना है। हालांकि, उत्तर पश्चिम और मध्य भारत के कुछ क्षेत्रों में अच्‍छी-खासी ठंड पड़ेगी। इसमें दिल्ली, दक्षिण हरियाणा के कुछ हिस्से, पश्चिम यूपी के साथ-साथ दक्षिण और पूर्वी राजस्थान और एमपी के कई हिस्से, आंतरिक महाराष्ट्र और तेलंगाना शामिल हैं।
मौसम विभाग ने कहा कि देशभर में रात में न्यूनतम तापमान सामान्य से अधिक गर्म रहने की उम्मीद है। दक्षिण भारत के अधिकांश हिस्सों और पूर्वी भारत के कुछ हिस्सों में तापमान सामान्य से काफी ऊपर रहने की संभावना है। आईएमडी ने कहा कि उत्तर, उत्तर-पश्चिम, मध्य, पूर्व और उत्तर-पूर्व हिस्सों में सामान्य से कम शीतलहर वाले दिन देखने को मिल सकते हैं। उत्तर भारत में, शीतलहर यानी `कोल्ड डे’ की स्थिति का मतलब कड़ाके की सर्दी होता है। आईएमडी के मौसमी पूर्वानुमानों को अवधि के दौरान सामान्य ट्रेंड का संकेत माना जाता है। मतलब, तापमान औसतन सामान्य से ऊपर रहने की उम्मीद है, मगर एक्‍सट्रीम वेदर इवेंट्स से पूरी तरह इनकार नहीं किया जा सकता है।​ आईएमडी के अनुसार, दिसंबर के दौरान उत्तर-पश्चिम और मध्य और पूर्वी भारत के आस-पास के इलाकों और सुदूर दक्षिण के कुछ इलाकों में बारिश सामान्य से अधिक होने की संभावना’ है। पूर्वाेत्तर, उत्तरी प्रायद्वीपीय भारत और मध्य भारत के आस-पास के क्षेत्रों के कई हिस्सों में सामान्य से कम सर्दी पड़ने की उम्मीद है। आईएमडी ने कहा कि पिछला महीना औसत तापमान के मामले में भारत में अब तक का सबसे गर्म नवंबर रहा। नवंबर २०२३ में एवरेज तापमान लंबी अवधि के औसत से १.०९ डिग्री सेल्सियस अधिक था।

अन्य समाचार

कविता