मुख्यपृष्ठसमाचारआनेवाले साल होंगे खतरनाक!

आनेवाले साल होंगे खतरनाक!

– झुलसती गर्मी करेगी बेहाल… नई स्टडी में बड़ा खुलासा

सामना संवाददाता / नई दिल्ली

आज उत्तर भारत भले ही ठंड से ठिठुर रहा हो और लोगों को ठंड से परेशानी हो रही हो, लेकिन अब इस शीतलहर के बाद भीषण गर्मी के लिए भी तैयारी कर लेनी चाहिए। क्योंकि एक शोध की मानें तो आनेवाले साल बेहद खतरनाक साबित हो सकते हैं, जिसमें झुलसती गर्मी में इंसानों का जीना बेहाल होगा। दरअसल, विश्व मौसम वैज्ञानिक संस्थान के साथ अमेरिकी अनुसंधान संस्था नासा के वैज्ञानिक भी २०२४ में मौसम की स्थिति को लेकर सतर्कता बरतने के लिए कह चुके हैं। भले ही २०२३ सबसे गर्म वर्ष रहा है और २०२४ में सबसे ज्यादा गर्मी पड़ने की जानकारी नासा की तरफ से दी गई है। संस्थान का कहना है कि जलवायु परिवर्तन एवं अलनीनो के प्रभाव से विश्व में इस तरह की स्थिति बन रही है।
गौरतलब है कि आमतौर पर हम देखते हैं कि हर साल भारत में बर्फबारी दिसंबर महीने में हो जाती है, लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ। अपने तय समय में न होकर यह बर्फबारी जनवरी महीने के अंत में देखने को मिली। ये सब बढ़ते हुए तापमान की वजह से है। इसको लेकर एक नई स्टडी सामने आई है, जिसमें बताया गया है कि यह तापमान २ डिग्री सेल्सियस के आसपास पहुंच गया है। यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया के जियोकेमिस्ट मैल्कम मैक्लुलोच का कहना है कि यह हम सभी के लिए जागने का वक्त है। यह साफतौर पर देखा जा सकता है कि तापमान में कितना अंतर आया है। दुनियाभर के देशों का दावा था कि २०५० तक तापमान को डेढ़ डिग्री सेल्सियस तक कम कर देंगे, जो कि अब बेकार हो चुका है। दुनियाभर में जितनी भी मौसमी आपदाएं आ रही हैं, उन सभी के पीछे का कारण बढ़ता हुआ तापमान ही है। यही वजह है कि कभी भी बाढ़ आ जाती है और कभी तूफान आ जाता है।
मुंबई में सर्दी का सितम हुआ कम,दिन होने लगे गरम!
मौसम विभाग के मुताबिक, महाराष्ट्र में न्यूनतम और अधिकतम तापमान में २ से ३ डिग्री सेल्सियस की वृद्धि हुई है। मंगलवार को मुंबई का तापमान ३३.१ डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। उत्तर हिंदुस्थान की ओर से आनेवाली हवाओं के अभाव में राज्य के न्यूनतम तापमान में वृद्धि हुई है। ऐसे में महाराष्ट्र में भले ही सर्दी का सितम कम हो गया है, लेकिन दिन गरम होने से लोगों के पसीने छूटने लगे हैं। दोपहर में तपिश महसूस होने से लोग गर्मी से बेहाल होते हुए दिखाई दे रहे हैं। हालांकि, मौसम विभाग ने अनुमान लगाया है कि अगले सप्ताह में फिर से उत्तरी हवाएं चल सकती हैं। उत्तर की ओर से चलनेवाली शीत हवाओं की कमी के कारण महाराष्ट्र के न्यूनतम तापमान में वृद्धि हुई है। प्रदेश में ठंड कम होने के साथ-साथ दोपहर के समय गर्मी महसूस की जा रही है। मौसम विभाग का अनुमान है कि भी राज्य के न्यूनतम तापमान में बढ़ोतरी जारी रहेगी।

अन्य समाचार