मुख्यपृष्ठअपराधसायबर क्राइम ब्रांच का प्रशंसनीय कार्य: साढ़े सात महीने में ऑनलाइन ठगी...

सायबर क्राइम ब्रांच का प्रशंसनीय कार्य: साढ़े सात महीने में ऑनलाइन ठगी किए गए १ करोड़ से ज्यादा रुपए बरामद

सावधानी बरतें नहीं तो एकाउंट हो जाएगा साफ

चंद्रकांत दुबे / मीरा रोड
मीरा-भायंदर, वसई-विरार पुलिस कमिश्नरेट की साइबर क्राइम ब्रांच ने जनवरी २०२३ से २० अगस्त २०२३ तक ऑनलाइन धोखाधड़ी के शिकार हुए लोगों के १ करोड़ १ लाख ८ हजार ५७६ रुपए बरामद करने में सफलता पाई है। पुलिस ने सावधानी बरतने की अपील की है, जिससे ऑनलाइन धोखाधड़ी से बचा जा सके।
बता दें कि साइबर संबंधी शिकायतों और साइबर अपराधों की जांच के लिए पुलिस आयुक्तालय की क्राइम ब्रांच के तहत एक साइबर क्राइम सेल की स्थापना की गई है। साइबर क्राइम सेल के पास जनवरी २०२३ से अब तक साढ़े सात महीने में ऑनलाइन धोखाधड़ी की कुल १९५२ शिकायतें प्राप्त हुईं। साइबर क्राइम सेल को जैसे ही ऑनलाइन धोखाधड़ी की शिकायत प्राप्त हुई, उसी समय तत्काल संज्ञान लिया गया और ६५ शिकायतकर्ताओं को रुपये वापस मिल गए। इसके लिए किसी न्यायिक प्रक्रिया की जरूरत भी नहीं पड़ी, जिसमें सबसे कम राशि ५०० ​​रुपए की ठगी थी। ऑनलाइन धोखाधड़ी की शिकायत में सबसे ज्यादा रकम क्रिप्टो निवेश (39596USDT) के नाम पर ३६ लाख रुपये की ठगी थी, जिसे वसूल कर लिया गया। साइबर क्राइम सेल ने इससे पहले भी शिकायतकर्ता को वर्ष २०२२ में ऑनलाइन धोखाधड़ी की राशि ९१ लाख १४ हजार ८३३ रुपये की वसूली की थी।
कैसी हैं ज्यादातर शिकायतें
साइबर क्राइम सेल को प्राप्त होने वाली शिकायतों में ऑनलाइन धोखाधड़ी के संबंध में मुख्य रूप से निम्न प्रकार की शिकायतें प्राप्त होती हैं। जैसे बिजली बिल अपडेट, बैंक एकाउंट केवाईसी, गूगल सर्च, वर्क फ्रॉम होम, टास्क, शॉपिंग, फ्रॉड लोन ऐप, फर्जी क्रिप्टो करेंसी आदि जैसे अलग-अलग मैसेज भेजकर ठगी की जाती है।
सावधानी बरतने की अपील
मीरा-भायंदर, वसई-विरार पुलिस आयुक्त मधुकर पांडे ने क्षेत्र में रहने वाले सभी नागरिकों से अपील की है कि वे ऑनलाइन लेनदेन करते समय सतर्क रहें, क्योंकि आपके साथ ऑनलाइन धोखाधड़ी कभी भी हो सकती है। साथ ही ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करते वक्त आपके साथ धोखाधड़ी होती है तो तुरंत www.cybercrime.gov.in अथवा हेल्पलाइन १९३० पर संपर्क करके तत्काल शिकायत दर्ज करें। सावधानी बरतें नहीं तो एकाउंट साफ होने में समय नहीं लगेगा। तुरंत कार्रवाई होने पर धोखाधड़ी की रकम को रोकने और शिकायतकर्ता के खाते में पैसे वापस आने की संभावनाएं ज्यादा होती है।

अन्य समाचार