मुख्यपृष्ठटॉप समाचारमहंगाई ने किया कॉमन मैन का जीना मुहाल!

महंगाई ने किया कॉमन मैन का जीना मुहाल!

• डीजल-पेट्रोल के कारण बढ़ी मुसीबत
• केंद्र सरकार हुई महंगाई के मोर्चे पर फेल

गोविंद पाल / नई मुंबई । आसमान छूती महंगाई ने कॉमन मैन का जीना मुहाल कर दिया है। पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों ने लोगों की मुसीबतें बढ़ा दी हैं। आम लोगों का मानना है कि बढ़ती कीमतों का मुद्दा भुनाकर केंद्र की सत्ता पर काबिज होनेवाली भाजपा सरकार महंगाई के मोर्चे पर फेल हो चुकी है।
गौरतलब है कि आम नागरिकों को अब घर चलाने को लेकर चिंता सताने लगी है। पेट्रोल के दाम आसमान छू रहे हैं और आम आदमी को बाइक से कहीं जाने में काफी सोचना पड़ रहा है। सभी कंपनियां एवं कई छोटे उद्योग पेट्रोल-डीजल पर निर्भर रहते हैं। जैसे ही पेट्रोल-डीजल के भाव बढ़ते हैं, उसका असर व्यापार पर पड़ना शुरू हो जाता है। पाम तेल की कीमतों में लगातार बृद्धि होने के कारण एफएमसीजी कंपनियां अपने प्रोडक्ट की कीमतों में बढ़ोतरी करने के लिए तैयार बैठी हैं। लॉकडाउन खुलने के बाद से ही रोजमर्रा की जिंदगी में आनेवाली सभी चीजें महंगी होती जा रही हैं। इससे आम जनता काफी परेशान है। उसके बावजूद केंद्र सरकार महंगाई को कम करने की बात तो दूर है, वो स्वीकार करने को तैयार नहीं है और सरकार के लोग न ही इस विषय पर चर्चा करने को तैयार हैं।

पैदल जाता हूं ऑफिस
महंगाई काफी बढ़ गई है पहले मैं अपने ऑफिस जाने के लिए अपनी गाड़ी से जाता था क्योंकि ऑफिस के नजदीक बस जाती नहीं है इसलिए अब मैं रोजाना करीब दो किलोमीटर पैदल चलकर ऑफिस जाता हूं। बच्चे कई तरह की मांगें करते हैं। महंगाई की वजह से हम उन्हें पूरा नहीं कर पा रहे हैं, जिससे घर में भी कई बार कलह हो जाती है।
-पैâजान शेख

सब्जी, तेल व अनाज महंगा
सब्जी, तेल और अनाज का रेट बढ़ गया है। आखिर आदमी जिए तो जिए वैâसे? सुबह बच्चों को ब्रेड देते थे उसका भी रेट बढ़ गया। भाव कभी कम नहीं होता, बस बढ़ता ही जाता है। महंगाई की दुहाई देकर सरकार बनाते हैं और बाद में पहले से ज्यादा महंगाई बढा देते हैं ।
-प्रियंका पाटील

राशन हुआ महंगा
महंगाई काफी बढ़ गई है इसलिए अब हम दिल खोलकर शॉपिंग नहीं कर पा रहे हैं। पहले एक महीने का राशन भरने के लिए ५ से ६ हजार रुपए लगते थे लेकिन अब ८ से ९ हजार रुपए लगते हैं। होटल में भी खाना महंगा हो गया है। कभी थकान होती तो होटल से खाना मंगवा लेते थे लेकिन अब मजबूरन घर में ही खाना बनाकर खाना पड़ता है। घूमना-फिरना भी कम हो गया है क्योंकि जिस तरह महंगाई बढ़ी है, उस हिसाब से आमदनी नहीं बढ़ी है।
-शिरीष भट

महंगाई कभी कम नहीं हुई
महंगाई हमेशा बढ़ती है। कभी कम नहीं होती। आज मेरी उम्र ४२ साल हो गई। मैंने कभी नहीं सुना कि महंगाई कम हो गई हो। महंगाई के साथ लोगों की आय भी बढ़ती है। पहले मजदूरी रोजाना ३०० रुपए थी, अब ५०० रुपए हो गई है। लोग ज्यादा कोरोना की वजह से परेशान हुए हैं। उनका काम-धंधा छूट गया है तो उन्हें सस्ती वस्तु भी महंगी लगती है।
-रमेश पांडे

अन्य समाचार