मुख्यपृष्ठसंपादकीयसंभ्रमित युग! बदनाम कमल!

संभ्रमित युग! बदनाम कमल!

देश के हालात संभ्रमित होने जैसे होने की बात शरद पवार ने कही है। ऐसी कई संभ्रमित बातों की वर्तमान में बाढ़ आ गई है। सरकारें चुनकर लाने की बजाय विरोधियों की सरकारों को गिराना, पार्टी तोड़ना ऐसा जो चल रहा है, इसकी वजह से विष्णु का पसंदीदा पूâल ‘कमल’ बदनाम हो गया है। ‘ऑपरेशन लोटस’ अर्थात ‘कमल’ अलकायदा की तरह दहशतवादी शब्द बन गया है। ‘दिल्ली की सरकार को गिराने के लिए शुरू किया गया ऑपरेशन कमल ‘फेल ’ हो गया है। भाजपा की पोल खुल गई है।’ ऐसी घोषणा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने की है। बिहार में भी ‘ऑपरेशन कमल’ नहीं चला तथा तेलंगाना के मुख्यमंत्री के.सी. चंद्रशेखर राव ने अमित शाह को खुली चुनौती दी कि ‘ईडी, सीबीआई आदि लगाकर मेरी सरकार गिराकर दिखाओ।’ महाराष्ट्र में ईडी के डर से शिंदे गुट घुटनों के बल बैठ गया, ऐसे अन्य राज्यों में कोई भी झुकने को तैयार नहीं है। सबसे महत्वपूर्ण घटनाक्रम दिल्ली राज्य में घटित हुआ। ईडी, सीबीआई का इस्तेमाल करके केजरीवाल की सरकार को गिराने का प्रयास चल रहा है। दिल्ली सरकार की शराब नीति, उनकी आबकारी नीति, उनके द्वारा मद्य विव्रेâताओं को दिए गए ठेके, यह भाजपा के दृष्टिकोण से आलोचना का विषय होगा, परंतु यह निर्णय व्यक्तिगत नहीं था, बल्कि पूरी सरकार का था और इसमें दिल्ली के नायब राज्यपाल का भी समावेश होता है, लेकिन कैबिनेट  के निर्णय का ठीकरा उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया पर फोड़कर उनके खिलाफ सीबीआई ने छापेमारी की। उन्हें इस प्रकरण में एक नंबर का आरोपी बनाया और यह प्रकरण अब ईडी के पास मतलब भाजपा की विशेष शाखा के सुपुर्द कर दिया गया है। मनीष सिसोदिया पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है। सिसोदिया कोई भागनेवाले गृहस्थ नहीं हैं। लेकिन किसी अपराधी की तरह उनके खिलाफ ‘लुकआउट’ नोटिस जारी करके जनता द्वारा चुनी गई सरकार की तौहीन की गई। इसलिए ही देश की स्थिति संभ्रम वाली है। ऐसा श्री पवार कहते हैं तो यह सत्य है। यह सब केजरीवाल की सरकार को गिराने के लिए किया जा रहा है। अब श्री मनीष सिसोदिया ने भाजपा की ‘वॉशिंग मशीन’ पर बम गिराया है। ‘भाजपा में प्रवेश करो, ‘आप’ के विधायकों को तोड़कर लाओ और मुख्यमंत्री बनो। ऐसा करने पर आपके खिलाफ ईडी, सीबीआई के तमाम प्रकरण बंद कर दिए जाएंगे।’ ऐसा ऑफर भाजपा द्वारा दिए जाने का दावा सिसोदिया ने किया। ‘आप’ के विधायकों को तोड़ने के लिए बीस-बीस करोड़ रुपयों का ‘ऑफर’ दिए जाने का आरोप तो खुद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ही लगाया है। इसलिए ‘ऑपरेशन कमल’ लोकतंत्र और आजादी के लिए कितना घातक है यह घिनौने ढंग से सामने आया है। महाराष्ट्र में इसी तरह से ऑपरेशन चलाया गया, परंतु बड़ा राज्य होने के कारण व शिवसेना तोड़ना यही मुख्य एजेंडा होने की वजह से ईडी की धौंस, अतिरिक्त पचास खोखे इस तरह की रसद दी गई, ऐसा खुलकर कहा जा रहा है। महाराष्ट्र की भेड़ें घबराकर भाग गर्इं, उस तरह से दिल्ली के विधायक और उनके नेता नहीं भागे। वे भाजपा और ईडी के खिलाफ दृढ़तापूर्वक खड़े रहे। महाराष्ट्र में शिवसेना नेता संजय राऊत ने बेखौफ होकर ईडी का सामना किया। वे मराठी स्वाभिमान के साथ लड़े, लेकिन झुके नहीं और सच्चे शिवसैनिक की तरह जूझे। इसी तरह की सख्त नीति सिसोदिया ने अपनाई। सिसोदिया छत्रपति शिवराय के मावलों की तरह दहाड़े। स्वाभिमान की तलवार हाथ में लेकर उन्होंने कहा, ‘साजिश करनेवाले भ्रष्ट लोगों के समक्ष बिलकुल भी नहीं झुकेंगे।’ दिल्ली के उप मुख्यमंत्री सिसोदिया आगे जो कहते हैं वो महत्वपूर्ण है, ‘मैं महाराणा प्रताप का वंशज और राजपूत हूं। मेरा सिर कलम कर दिया जाएगा तब भी चलेगा लेकिन भ्रष्ट और षड्यंत्र रचनेवालों के आगे मैं कभी नहीं झुवूंâगा, यही मेरा भाजपा को जवाब है। मेरे खिलाफ तमाम प्रकरण झूठे हैं आपको जो करना है वो करो!’ श्री सिसोदिया ने यह सब बेखौफ होकर कहा। ‘मौत स्वीकार करूंगा, लेकिन समर्पण नहीं करूंगा, मुझे झूठे प्रकरणों में पंâसाया गया है।’ ऐसा संजय राऊत अंत तक कहते रहे और उन्होंने जेल जाना पसंद किया। महाराष्ट्र की ठाकरे सरकार को गिराने में मदद करो, अन्यथा ईडी के जाल में फंसा  देंगे, ऐसी धमकियां उन्हें भी दी गई थीं। इसके अलावा राऊत ने इस पूरे प्रसंग से राज्यसभा के तत्कालीन सभापति वेंवैâया नायडू को भी अवगत कराया था। लेकिन फिलहाल कौन किसकी सुनेगा? न पेशी न सुनवाई। तारीखों का खेल चल रहा है। महाराष्ट्र में गृहमंत्री अनिल देशमुख, मंत्री नवाब मलिक, सांसद संजय राऊत की आवाज को दबाने के लिए उन्हें उठाकर जेल में डाला गया। दिल्ली के मोहल्ला क्लिनिक वाले मंत्री सत्येंद्र जैन को पुराने प्रकरण में पकड़ा। आबकारी नीति में सरकारी तिजोरी को नुकसान हुआ इसलिए मनीष सिसोदिया पर कार्रवाई चल रही है। फिर इन ईडी, सीबीआई वालों से हमारा सवाल है, बीते सात-आठ वर्षों में जिस जल्दबाजी से सार्वजनिक वंâपनियां, हवाई अड्डों की बिक्री की गई, उसमें सरकार को क्या नफा-नुकसान हुआ और इस पर इन जांच एजेंसियों ने कौन-सी कार्रवाई की? बिहार में सत्ता परिवर्तन होते ही राष्ट्रीय जनता दल पर सीबीआई, ईडी के छापे पड़ना, यह महज संयोग कैसे  हो सकता है? परंतु तेजस्वी यादव ने सीधे कहा, ‘महाराष्ट्र में जो हुआ वह बिहार में नहीं होगा, बिहार डरेगा नहीं। जो डरपोक हैं उन्हें ईडी, सीबीआई का डर दिखाओ।’ असल में केंद्र  सरकार और उनके प्रमुखों को २०२४ को लेकर डर लग रहा है। यह डर केजरीवाल, ममता, उद्धव ठाकरे, नीतीश कुमार और शरद पवार का हैं। इन प्रमुखों को अपने साये से भी डर लगता है। इसलिए नितिन गडकरी और शिवराज सिंह चौहान के भी पीछे पड़ गए, ऐसा लगता है। इतना बड़ा बहुमत होने के बावजूद इन लोगों को डर क्यों लगता है? इसका एक ही उत्तर है उनका बहुमत पवित्र नहीं है। वह चुराया गया है। इसलिए स्वतंत्रता और लोकतंत्र खतरे में है, ऐसी अवस्था में जो समर्पण करेंगे, वहीं देश के वास्तविक शत्रु होंगे! छापेमारी का सत्र और बदले की छापेमारी ही उनका शस्त्र है। उसी शस्त्र से उनका ‘ऑपरेशन कमल’ हुआ, परंतु कमल के लाभार्थियों पर सरकारी छापे का वार नहीं होता है। देश की न्याय व्यवस्था में हमारा विश्वास है। परंतु न्याय के निर्णय में विलंब न हो इनती ही जनता की अपेक्षा है अर्थात आज शासकों का कामकाज इसी तरह से चल रहा है कि देश में एक संभ्रमित युग आ गया है। इस संभ्रमित युग में अब कौन अवतार लेगा? अन्यथा जनता को ही नरसिंह का अवतार धारण करना होगा!

अन्य समाचार