" />  अमरनाथ यात्रा पर असमंजस बरकरार, रद्द होने की उम्मीद है ज्यादा

 अमरनाथ यात्रा पर असमंजस बरकरार, रद्द होने की उम्मीद है ज्यादा

सैद्धांतिक तौर पर हो चुका है फैसला रद्द करने का क्योंकि कोई तैयारी नहीं

लगातार दूसरी बार कोरोना के कारण वार्षिक अमरनाथ यात्रा को रद्द करने की तैयारी चल रही है। सैद्धांतिक तौर पर इसे रद्द करने का फैसला लिया जा चुका है क्योंकि कोरोना से बदतर होते हालात के कारण यात्रा की कोई तैयारी ही अभी तक आरंभ नहीं हो पाई है।

अधिकारियों के अनुसार कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए अमरनाथ श्राइन बोर्ड और प्रदेश सरकार श्री अमरनाथ की वार्षिक तीर्थयात्रा को आम श्रद्धालुओं के लिए रद करने पर गंभीरता से विचार कर रही है। इस विषय में संबधित लोेगों के साथ लगातार विचार-विमर्श चल रहा है। केंद्रीय गृहमंत्रालय के साथ भी संवाद किया जा रहा है। पवित्र गुफा के आस-पास अभी तक श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए कोई ढांचा भी तैयार नहीं किया गया है। इतना जरूर था कि यह दूसरी बार है जब कोरोना से उपजे हालात के कारण वार्षिक अमरनाथ यात्रा की तैयारियां शुरू नहीं हो पाईं और यात्रा के दोनों मार्ग चंदनबाड़ी और बालटाल बर्फ से ढके हुए हैं।

सुरक्षाबलों का एक दस्ता रैकी के लिए जरूर पवित्र गुफा तक गया है। इसके अलावा पहलगाम-चंदनबाड़ी-शेषनाग-पवित्र गुफा मार्ग की सफाई भी नहीं हुई है। इस रास्ते पर कई जगह अभी भी बर्फ की मोटी चादर है। उस पर न पैदल चला जा सकता है और न घोड़े अथवा पालकी में सवारी कर यात्रा की जा सकती है। बर्फ हटाने और रास्ता तैयार करने के लिए कम से कम एक माह का समय चाहिए। इसके विपरीत बालटाल मार्ग पर स्थिति कुछ बेहतर है।

पिछले साल भी यह तीर्थयात्रा कोरोना संक्रमण से पैदा हालात के मद्देनजर रद्द कर दी गई थी। वर्ष 2019 में यह तीर्थयात्रा 31 जुलाई को आतंकी हमले की आंशका के चलते चार दिन के लिए स्थगित की गई। फिर पांच अगस्त को इसे रद्द कर दिया गया था। इस दौरान सिर्फ महंत दीपेंद्र गिरि के नेतृत्व में पवित्र छड़ी मुबारक ही भगवान शिव की पूजा के लिए रक्षाबंधन के दिन पवित्र गुफा में गई थी।

इस वर्ष यह तीर्थयात्रा 28 जून को शुरू होनी है। 22 अगस्त का रक्षाबंधन की सुबह श्रावण पूर्णिमा के अवसर पर यह यात्रा संपन्न होगी। श्रद्धालुओं का पंजीकरण पहली अप्रैल को शुरू किया गया था। देश के विभिन्न हिस्सों की तरह प्रदेश में कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए इसे 22 अप्रैल को अनिश्चितकाल के लिए बंद कर दिया गया था।