मुख्यपृष्ठनए समाचारकर्नाटक में तेजस्वी सूर्या के लिए कांग्रेस ने बनाया `चक्रव्यूह'! ... वरिष्ठ...

कर्नाटक में तेजस्वी सूर्या के लिए कांग्रेस ने बनाया `चक्रव्यूह’! … वरिष्ठ भाजपा नेता को मैदान में उतारेगी

सामना संवाददाता / बंगलुरु
भले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने २०२४ के लिए चुनावी बिगुल बजा दिया है, लेकिन पार्टी के लिए दक्षिण की राजनीति में अपनी पकड़ मजबूत करने की संभावनाएं धूमिल दिख रही हैं। १० मई को कर्नाटक विधानसभा के नतीजे घोषित हुए और कांग्रेस सत्ता में आई। चुनाव नतीजे घोषित होने के तीन महीने बीत जाने के बाद भी भाजपा विधानसभा और विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष के नाम का एलान नहीं कर पाई है। अब कर्नाटक के राजनीतिक गलियारों में ऐसी फुसफुसाहट है कि कांग्रेस ने `रिवर्स ऑपरेशन लोटस’ या `ऑपरेशन जल्दबाजी’ शुरू कर दिया है और यह सुनिश्चित करने के लिए कि भाजपा जीत न पाए, कांग्रेस भाजपा के शीर्ष नेताओं की खिंचाई कर रही है। दक्षिण विधानसभा सीट से भाजपा युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या को हराने के लिए कांग्रेस ने चक्रव्यूह बनाया है।

बताया जा रहा है कि कांग्रेस भाजपा द्वारा चलाए गए `ऑपरेशन लोटस’ का बदला लेने के लिए तैयार है। जैसे भाजपा ने चुनाव के लिए कांग्रेस के शीर्ष नेताओं को शामिल किया था और इस तरह कर्नाटक में सत्ता हासिल की। अब हालात ऐसे हैं कि भाजपा नेतृत्व को अपने नेताओं को अपने साथ बनाए रखने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। इस पृष्ठभूमि में उप मुख्यमंत्री और कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष डी.के. शिवकुमार ने एक बयान दिया है। शिवकुमार ने कहा, `राजनीति में कुछ भी हो सकता है और कुछ भी स्थायी नहीं है’ और उनके बयान को `रिवर्स ऑपरेशन लोटस’ की शुरुआत कहा जा रहा है।
गौरतलब है कि कि पिछले चुनाव में कर्नाटक में पूरी ताकत लगाने के बावजूद भाजपा को हार का सामना करना पड़ा। यह हार भाजपा के वरिष्ठ नेताओं की कीमत पर हुई है। कर्नाटक में अपनी जीत से कांग्रेस पार्टी उत्साहित है। कर्नाटक में पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया और डीके शिवकुमार लगातार भाजपा पर हमलावर हैं और भाजपा के पास उनका मुकाबला करने के लिए कोई सक्षम नेतृत्व नहीं है।
पूर्व मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा कई बार इन दोनों को जवाब देते नजर आते हैं। फिलहाल, पूर्व मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ही कांग्रेस नेताओं से मुकाबला करने की कोशिश कर रहे हैं। विपक्ष के नेता के नाम की घोषणा नहीं करने पर कांग्रेस ने भाजपा का मजाक उड़ाना शुरू कर दिया है। कांग्रेस भाजपा की आलोचना करते हुए कह रही है कि विपक्ष के नेता के बिना कर्नाटक में बजट सत्र नहीं हुआ।

अन्य समाचार

लालमलाल!