मुख्यपृष्ठनए समाचारविक्रांत का श्रेय लेने पर कांग्रेस ने साधा पीएम पर निशाना;...

विक्रांत का श्रेय लेने पर कांग्रेस ने साधा पीएम पर निशाना; यह सभी के सामूहिक प्रयास का नतीजा! जयराम रमेश ने दिया बयान

सामना संवाददाता / नई दिल्ली
भारतीय नौसेना के बेड़े में विमानवाहक जंगी जहाज आईएनएस विक्रांत शामिल हो गया है। हालांकि इसे लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा श्रेय लेने की कोशिश की गई, जिसे लेकर राजनीतिक बहस छिड़ गई है। विक्रांत का श्रेय लेने पर कांग्रेस ने प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने कहा कि विक्रांत मोदी सरकार की उपलब्धि नहीं, बल्कि साल १९९९ के बाद की सभी सरकारों की सामूहिक कोशिशों का नतीजा है।
जयराम रमेश ने प्रधानमंत्री मोदी से सवाल करते हुए ट्वीट किया है कि क्या वे यह स्वीकार करेंगे कि यह सभी सरकारों के प्रयासों से हो सका है।‌ आइए मूल आईएनएस विक्रांत को भी याद करें, जिसने १९७१ के युद्ध में हमारी अच्छी सेवा की थी। कृष्णा मेनन ने इसे यूके से प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। गौरतलब हो कि देश को स्वदेशी एयरक्राफ्ट करियर आईएनएस विक्रांत मिल गया है। हिंदुस्थान को अपनी विशाल समुद्री सीमाओं की रक्षा के लिए ३ विमानवाहक पोतों की आवश्यकता है। एक साल के परीक्षण के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने कल इसे नौसेना को समर्पित किया। आईएनएस विक्रांत अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस है। नौसेना में यह अब तक का सबसे बड़ा युद्धपोत है, इसे २० हजार करोड़ रुपए की लागत से बनाया गया है। स्वदेशी अत्याधुनिक स्वचालित यंत्रों से युक्त विमान वाहक पोत का कल प्रधानमंत्री मोदी ने कोचीन शिपयार्ड में जलावतरण किया। साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने कोचीन में नौसेना के नए निशान का अनावरण भी किया। इस मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान, मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन और अन्य गणमान्य उपस्थित थे।

अन्य समाचार