मुख्यपृष्ठसमाचारजीएसटी वृद्धि प्रस्ताव पर कांग्रेस का तंज...'जीएसटी बढ़ाकर मोदी जी मारेंगे झापड़,...

जीएसटी वृद्धि प्रस्ताव पर कांग्रेस का तंज…’जीएसटी बढ़ाकर मोदी जी मारेंगे झापड़, आम आदमी न खा पाएगा गुड़ और पापड़’

• १४३ वस्तुओं व उत्पाद पर बढ़ेगी जीएसटी !

विक्रम सिंह / लखनऊ। बेतहाशा महंगाई के दौर में मोदी सरकार ने आम हिंदुस्थानियों की कमर पर एक और बोझ लादने का फैसला कर लिया है। केंद्र ने १४३ वस्तुओं व उत्पादों पर जीएसटी बढ़ाने का फैसला कर डाला है। जिसका कांग्रेस ने पुरजोर विरोध करते हुए इसे आमजनता से ‘क्रूर मजाक’ कहा है। कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर केंद्र सरकार के इस फैसले की तीव्र भर्त्सना की है। केंद्र सरकार पर तंज कसा है कि “जीएसटी बढ़ाकर अब मोदीजी मारेंगे जनता को झापड़, आम आदमी न खा पाएगा गुड और न पापड़।”

कांग्रेस नेता सिंघवी ने चुटीले अंदाज में केंद्र सरकार पर तीखा हमला किया। कहा कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) में बढ़ोतरी मध्यम वर्ग और निचले तबके के लोगों को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने १४३ उत्पादों की सूची पर जीएसटी बढ़ाने का प्रस्ताव रखा है। इनमें ९२ फीसदी पर १८ से २८ प्रतिशत जीएसटी बढ़ाने का प्रस्ताव है। इनमें अधिकांश उत्पाद एवं वस्तुएं मध्यवर्ग और निम्नवर्ग के रोजाना उपभोग की हैं। सरकार के इस फैसले से सबसे ज्यादा यही दोनों वर्ग प्रभावित होगा। गुड़ और पापड़ पर भी ५ फीसद टैक्स लगाने का औचित्य समझ के परे हैं। इन १४३ आइटम में वो भी शामिल है जिन्हें दिसंबर २०१८ में जीएसटी की सूची से निकाल दिया गया था। सिंघवी ने कहा कि कांग्रेस की राज्य सरकारें केंद्र सरकार के इस प्रस्ताव का विरोध करेंगी।

अगले महीने से जीएसटी वृद्धि का अनुमान
अगले माह केंद्र सरकार जीएसटी की दरों में बदलाव कर सकती है। जीएसटी काउंसिल की बैठक में फैसला लेने का अनुमान है। जानकारी के अनुसार, केंद्र सरकार के राजस्व में इससे बढ़ोतरी होगी और राज्य सरकारों को भी केंद्र पर निर्भर नहीं रहना होगा।

इन वस्तुओं के दामों में बढ़ोत्तरी का अनुमान
जानकारी के मुताबिक, केंद्र सरकार कॉउंसिल की बैठक में रंगीन टीवी सेट जो ३२ इंच से कम हैं, परफ्यूम, हैंडबैग, पापड़, घड़ी, सूटकेस, गुड़, पावर बैंक, चॉकलेट, कलर, अखरोट, च्युइंगम, कस्टर्ड पाउडर, धूपवाले काले चश्मे, चश्मे को फ्रेम, नॉन एल्कोहोलिक बेवरेज, चमड़े के अपैरल, सिरेमिक सिंक वॉश बेसिन और कपड़ों के सामान शामिल हैं। पापड़ और गुड़ जैसी वस्तुओं पर पहले कोई जीएसटी नहीं थी लेकिन ५ प्रतिशत की जा सकती है। इसके अलावा अधिकांश वस्तुओं पर जीएसटी की दर १८ से २८ फीसद तक हो सकती है।

अन्य समाचार