मुख्यपृष्ठसमाचारयूपी में पत्रकार का मकान हड़पने की साजिश का भंडाफोड़!... डीजीपी के...

यूपी में पत्रकार का मकान हड़पने की साजिश का भंडाफोड़!… डीजीपी के निर्देश पर एफआईआर दर्ज, उठाया गया हिस्ट्रीशीटर आरोपी

विक्रम सिंह / सुल्तानपुर

‘योगीराज’ के भ्रष्टाचारमुक्त प्रशासन के दावों को धता बताते हुए जमीन कब्जाने और कूटरचित दस्तावेजों के जरिए फर्जीवाड़ा किए जाने की वारदातों में रोजाना बढ़ोत्तरी होती दिख रही है। अफसरशाही की लापरवाही का नतीजा है कि जमीन के अवैध कारोबारी आए दिन फर्जी रजिस्ट्री बैनामे कराकर बेशकीमती संपत्तियों की कब्जाने की साज़िश रच रहे हैं। ऐसे ही एक ताजातरीन प्रकरण का भंडाफोड़ हुआ है सुल्तानपुर जिले में। मूलतः सुल्तानपुर के कादीपुर टाउन के निवासी राजधानी लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार अरुण सिंह के पैतृक मकान को एक हिस्ट्रीशीटर ने हड़पने की साजिश रचते हुए फर्जी सहमतिपत्र बनाकर नगर पंचायत कार्यालय में दाखिल कर नामांतरण की कार्यवाही शुरू करा दी। भनक लगी तो वरिष्ठ पत्रकार सिंह ने पुलिस कप्तान को सारी वस्तुस्थिति से अवगत कराया। नतीजतन जांच हुई। जिसमें फर्जीवाड़े की प्रथमदृष्टया पुष्टि होने के बाद सुल्तानपुर पुलिस ने आरोपी हिस्ट्रीशीटर सहित दो नामजद आरोपियों पर केस दर्ज कर लिया है।
लखनऊ से प्रकाशित एक हिंदी साप्ताहिक पत्रिका के संपादक अरुण सिंह मूलतः कादीपुर के कटसारी गांव के निवासी हैं, जिनका एक पैतृक मकान निराला नगर (टाउन) में भी है, जो कि उनके व सगे बड़े भाई के नाम है। कादीपुर पुलिस के अनुसार, हार्डकोर हिस्ट्रीशीटर मधुर सिंह (कृष्ण मोहन) ने पत्रकार सिंह के फर्जी हस्ताक्षरयुक्त सहमतिपत्र तैयार कराकर अफसरों व कर्मियों को गुमराह करके नगर पंचायत कार्यालय में उसे दाखिल कर नामांतरण प्रक्रिया अपने पक्ष में कराने की साज़िश रच रहा था। इसी दौरान जनचर्चा से इसकी भनक पत्रकार को मिल गई, जिस पर उन्होंने उच्चाधिकारियों को प्रकरण से अवगत कराया। नतीजतन पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। प्रकरण की एफआईआर गैरजमानती धाराओं में दर्ज होने से फर्जीवाड़ा करने वालों में हड़कंप मच गया है। उधर पुलिस कप्तान सोमेन बर्मा ने कहा है कि जमीन के अवैध कारोबारियों के खिलाफ पुलिस विधिसम्मत ढंग से ठोस कार्रवाई करेगी, जिससे कि इसतरह की वारदातों पर लगाम लगाई जा सके।

अन्य समाचार