मुख्यपृष्ठनए समाचारविपक्ष मुक्त संसद बनाने की साजिश, हिम्मत है तो ‘बैलेट’ पर चुनाव...

विपक्ष मुक्त संसद बनाने की साजिश, हिम्मत है तो ‘बैलेट’ पर चुनाव कराओ!-संजय राऊत का केंद्र पर हमला

सामना संवाददाता / मुंबई
‘विपक्ष मुक्त’ संसद बनाने का कार्यक्रम सत्तारूढ़ दल कर रहा है। अगर हिम्मत है तो बैलेट पेपर पर चुनाव कराकर दिखाओ! सांसदों के निलंबन को लेकर शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) नेता व सांसद संजय राऊत ने केंद्र सरकार पर इन शब्दों में हमला किया। संजय राऊत कल से नासिक के दो दिवसीय दौरे पर हैं। इसी दौरान वे बोल रहे थे।
संजय राऊत ने कहा कि सरकार विपक्ष को खत्म करने के लिए कार्यक्रम चला रही है। केंद्र सरकार विपक्ष मुक्त संसद चाहती है। जम्मू-कश्मीर में सैनिक मारे गए, लेकिन सरकार को इसकी जानकारी नहीं है। उन्होंने सवाल किया कि फिर से जवानों की शहादत पर राजनीति करना है क्या?
ईवीएम है तो मुमकिन है
सांसद संजय राऊत ने कहा कि ईवीएम है तो सब कुछ मुमकिन है। उन्हें ईवीएम मशीन पर तगड़ा विश्वास है। इस तरह की चुटकी लेते हुए संजय राऊत ने कहा कि हमारा कहना है कि बैलेट पेपर पर चुनाव कराओ। यह तुम नहीं सुन रहे हो, क्योंकि इससे तुम हार जाओगे। उन्होंने कहा कि अन्य देशों में बैलेट पेपर पर चुनाव होते हैं। तुम खुद को महाशक्ति मानते हो तो फिर तुम चुनाव बैलेट पेपर से क्यों नहीं करा रहे हो? इस तरह का सवाल भी उन्होंने केंद्र से पूछा।
संसद से बाहर जवाब देते हैं गृहमंत्री
संजय राऊत ने कहा कि सत्तारूढ़ दल से सवाल पूछना विपक्ष का काम है। यदि सवालों का जवाब न मिल रहा हो तो विपक्ष खड़े होकर सवाल पूछेगा ही, यह अधिकार विपक्ष को संविधान ने दे रखा है। हालांकि, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को संसद में घुसपैठ वैâसे हुई, इसका जवाब संसद में आकर देना चाहिए, लेकिन वे संसद के बाहर जवाब देते हैं। इस तरह का तंज संजय राऊत ने कसा।
विपक्ष पर ही शुरू है कार्रवाई
सुनील केदारे के बारे में बोलते हुए संजय राऊत ने कहा कि वे कांग्रेस के बड़े नेता हैं। लड़ाकू नेता हैं। भाजपा में ऐसे कई नेता हैं, जिन पर कई केस चलने चाहिए, कार्रवाइयां होनी चाहिए। लेकिन कोर्ट पर दबाव होने से विपक्ष के नेताओं पर ही कार्रवाइयां हो रही हैं। विपक्ष के ही विधायकों की विधायकी और सांसदों की सांसदी रद्द हो रही है। इस तरह का हमला भी संजय राऊत ने किया।

अन्य समाचार