मुख्यपृष्ठनए समाचारकोरोना ‘बीए’ वैरिएंट के मरीजों में वृद्धि जारी; दिनभर में ४९ नए...

कोरोना ‘बीए’ वैरिएंट के मरीजों में वृद्धि जारी; दिनभर में ४९ नए मरीज

  •  कुल संख्या हुई ५०६

सामना संवाददाता / मुंबई
राज्य में कोरोना के ‘बीए’ वैरिएंट का खतरा बरकरार है। बीते २४ घंटों में इसके नए मरीज मिलने से मरीजों की कुल संख्या ५०६ तक पहुंच गई है। इस वैरिएंट में ‘बीए४’ और ‘बीए२.७५’ प्रकार के मरीज शामिल होने का खुलासा राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने किया है।
राज्य में एक दिन में ‘बीए४’ के १४ तो ‘बीए२.७५’ के ३५ नए मरीज मिले हैं। नए मरीजों के कारण राज्य में अब तक मिले बीए४ और बीए५ मरीजों की संख्या २७२ तो बीए२.७५ मरीजों की संख्या २३४ हो गई है। इस बीच पुणे इन्साकॉग प्रयोगशाला में इनकी जांच की गई है। ये सभी मरीज २० से २८ जुलाई की कालावधि के दौरान होने का खुलासा स्वास्थ्य विभाग ने किया है।
मुंबई में ४८६ नए मरीज
मुंबई में बीते २४ घंटों में किए गए ९,५४१ परीक्षणों में ४८६ लोग कोरोना संक्रमित पाए गए तो २ लोगों की कोरोना के कारण मौत हो गई। नए मरीजों के कारण मुंबई में कुल सक्रिय मरीजों की संख्या २,५९१ हो गई है। एक दिन में २८४ ने कोरोना को मात दी। मुंबई में फिलहाल मरीजों के डबलिंग रेट की कालावधि २,३२९ हो गई है।
संक्रमण बढ़ा ,लेकिन मंत्री ही नहीं
राज्य में नई सरकार स्थापित होने के बाद बीते एक महीने में कोरोना का संक्रमण फिर बढ़ने लगा है। इसे लेकर वेंâद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने चिंता व्यक्त की है। राज्य की नई सरकार ने अभी स्वास्थ्य मंत्री की नियुक्ति नहीं की है। इसलिए राज्य की जनता के स्वास्थ्य का ध्यान रखने के लिए स्वास्थ्य मंत्री ही नहीं है, ऐसे हालात फिलहाल निर्माण हो रहे हैं। केंद्रीय  स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने राज्य के स्वास्थ्य सचिव डॉक्टर प्रदीप व्यास को कड़ा पत्र भेजा है। बीते एक महीने से महाराष्ट्र में प्रतिदिन २,१३५ केस मिल रहे हैं। ५ अगस्त को १,८६२ केस मिलने की जानकारी इस पत्र में दी गई है परंतु कल (शनिवार को) कोरोना के सर्वाधिक १,९३१ केस मिले हैं। स्वास्थ्य विभाग में मंत्री नहीं है, ऐसी ही अवस्था अन्य विभागों की भी हो गई है। खुद उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी विभाग रहित मंत्री हैं। मंत्री ही नहीं होने की वजह से सब काम ठप हो गया है। इसलिए मंत्रियों के अधिकार सचिवों को देने की नौबत आ गई है। राज्य में मंत्री ही नहीं होने की वजह से अतिरिक्त मुख्य सचिव, प्रधान सचिव व सचिवों को अधिकार दिए गए हैं। मंत्रियों के बिना राज्य की गाड़ी न रुके इसलिए यह निर्णय लिया गया है। इससे संबंधित आदेश मुख्य सचिव मनु कुमार श्रीवास्तव ने जारी किया है।

अन्य समाचार