मुख्यपृष्ठनए समाचारकोरोना को फिर भगाना है... मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने किया जनता से...

कोरोना को फिर भगाना है… मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने किया जनता से आह्वान

• दोबारा पाबंदियां नहीं चाहते तो अनुशासन का करें पालन
• मास्क का प्रयोग और टीकाकरण जरूरी
• मानसून पूर्व कार्यों में तेजी लाने का निर्देश
• कानून-व्यवस्था में न पड़े खलल

सामना संवाददाता / मुंबई । पिछले महीने की तुलना में राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ रही है और चौथी लहर आने की संभावना है। यदि राज्य में फिर से प्रतिबंध नहीं लगाना है तो मास्क पहनें, टीका लगवाएं और नियमों का पालन जरूर करें। यह आह्वान मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य की जनता से किया है। साथ ही उन्होंने राज्य के सभी जिलाधिकारियों को मानसून पूर्व कार्यों में तेजी लाने और कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए सतर्क रहने का निर्देश दिया है।
कोरोना की स्थितियों को लेकर कल मुख्यमंत्री की प्रधानमंत्री मोदी के साथ बैठक हुई। इसके बाद मुख्यमंत्री ने राज्य के सभी जिलाधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्प्रâेंसिंग के जरिए बैठक करके प्रदेश की स्थिति का जायजा लिया। इस बैठक में स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे सहित संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है। हम सभी को ध्यान रखना होगा। दुनियाभर में नए-नए वायरस पैदा हो रहे हैं। चीन में इस समय ४० करोड़ लोग लॉकडाउन में हैं। हमने भी कोरोना की तीन लहरों का सफलतापूर्वक मुकाबला किया है। कइयों ने अपने प्रियजनों को खोया है। तीन लहरों के दौरान हमने जो स्वास्थ्य सुविधाएं शुरू कीं, वे पर्याप्त रहीं।
कानून-व्यवस्था बनाए रखें
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के सभी राजस्व, पुलिस और स्वास्थ्यकर्मी असली योद्धा हैं और राज्य के विकास का हिस्सा हैं। उन्होंने राज्य के हर जिले में कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए सतर्क रहने का भी निर्देश दिया।
टीकाकरण अनिवार्य करें, केंद्र सरकार से मांग
मुख्यमंत्री ने कहा कि टीकाकरण को अनिवार्य बनाने और वैक्सीन की दो खुराक लेनेवालों को बूस्टर डोज देते हुए ९ महीने की अवधि कम करने के संबंध में वे केंद्र सरकार को पत्र भेजेंगे। कोविड रोकथाम नियमों के पालन के संबंध में हर जिले और राज्य स्तर पर आवश्यक जागरूकता पैâलाई जाए। राज्य सरकार १८ से ५९ आयु वर्ग के नागरिकों को सरकारी अस्पतालों से बूस्टर डोज देने पर विचार कर रही है। मुख्यमंत्री ने प्री-मानसून कार्यों की भी समीक्षा की और सभी जिलाधिकारियों को तटीय जिलों में चक्रवात की संभावना को देखते हुए आवश्यक उपाय करने के निर्देश दिए।
विभागीय सीएमओ स्थानीय मुद्दों का समाधान करें
प्रत्येक विभागीय आयुक्त के कार्यालय में मुख्यमंत्री सचिवालय शुरू किया गया है। यहां आने वाले स्थानीय लोगों की समस्या का निवारण हो, इस उद्देश्य से सभी विभागीय आयुक्त कार्य करें। यह निर्देश मुख्यमंत्री ने विभागीय आयुक्तों को दिया। उन्होंने कहा कि स्थानीय स्तर पर आम जनता के मुद्दों को तुरंत हल किया जाएगा और केवल नीतिगत मामलों से संबंधित मामले मंत्रालय के दायरे में लाए जाएं।
अस्पतालों में संयंत्रों का परीक्षण एवं मरम्मत के साथ फायर ऑडिट जरूरी – टोपे
स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि राज्य के सभी जिलाधिकारियों को कोरोना टेस्टिंग बढ़ाने और टीकाकरण अभियान में तेजी लाने के लिए विशेष प्रयास करने की जरूरत है। उन्हें एक बार फिर जन जागरूकता अभियान शुरू करने का निर्देश दिया और अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने को कहा कि अन्य राज्यों की तुलना में महाराष्ट्र में स्वास्थ्य कार्य अधिक बेहतर तरीके से पूरा हो। स्वास्थ्य संस्थानों में सभी संयंत्रों के रख-रखाव और मरम्मत के दौरान अस्पताल में फायर ऑडिट भी बहुत जरूरी है।

अन्य समाचार