मुख्यपृष्ठनए समाचारवुहान लैब में ही तैयार हुआ है कोरोना! डब्ल्यूएचओ चीफ का सनसनीखेज...

वुहान लैब में ही तैयार हुआ है कोरोना! डब्ल्यूएचओ चीफ का सनसनीखेज दावा

एजेंसी / बीजिंग
कोरोना की उत्पत्ति को लेकर पिछले दो सालों से विवाद बना हुआ है। आखिर ये जानलेवा कोरोना वायरस कहां से आया? क्या इसे इंसान ने बनाया या यह कोई प्राकृतिक आपदा है? यह सवाल पिछले दो सालों में कई बार दुनियाभर के वैज्ञानिकों, नेताओं और आम आदमी के मन में उठ रहे हैं लेकिन अब डब्ल्यूएचओ चीफ ने एक सनसनीखेज दावा किया है कि कोरोना वायरस वुहान लैब में ही तैयार किया गया है। हालांकि इससे पहले भी चीन पर सवाल उठते रहे हैं कि ये वायरस वुहान लैैब से ही निकला है लेकिन हर बार चीन ने बड़ी चालाकी के साथ इसे मानने से इनकार किया है। हालांकि इससे पहले भी एक स्टडी में चीन की सच्चाई सभी के सामने लाने का प्रयास किया गया था।
उस समय स्टडी में दावा किया गया था कि चीनी वैज्ञानिकों ने वुहान लैब में ही कोविड-१९ जैसा खतरनाक वायरस बनाया है और फिर इसके बाद इस जानलेवा वायरस को रिवर्स-इंजीनियरिंग वर्जन से इसे ढकने की कोशिश की, जिससे लगे कि कोरोना वायरस चमगादड़ द्वारा प्राकृतिक रूप से विकसित हुआ है।
बता दें कि कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया में जमकर तबाही मचाई। पूरी दुनिया में करोड़ों लोग इससे संक्रमित हुए तो कइयों ने अपनी जान गंवाई। चारों ओर हाहाकार मचा रहा। पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था गड़बड़ा गई। गौरतलब है कि पहली बार इस वायरस से संक्रमण का पहला मामला वुहान से आया था। उस दौरान कहा गया कि ये वायरस चमगादड़ों से फैला है लेकिन धीरे-धीरे ये बात सामने आने लगी कि इसे चीन ने जैविक हथियार के रूप में इस्तेमाल करने के लिए वुहान लैब में तैयार किया और यहीं से यह लीक हुआ, जिसके बाद कोरोना ने पूरी दुनिया में भारी तबाही मचाई।
जब इससे जुड़े एक वैज्ञानिक ने आवाज उठाई तो चीन ने उसकी जान ले ली। हालांकि चीन लगातार नकारता रहा कि कोरोना वायरस को उसने जन्म दिया है। अब डब्ल्यूएचओ चीफ ने जो बात कही है, उससे ड्रैगन की परेशानी बढ़ सकती है। क्योंकि उन्होंने खुलासा कर दिया है कि यह चीन के वुहान लैब से ही लीक हुआ था। डब्ल्यूएचओ के प्रमुख मानते हैं कि कोरोना वायरस चीन के वुहान शहर के लैब से एक हादसे के बाद लीक हो गया। एक खबर के मुताबिक एक वरिष्ठ सरकारी सूत्र ने रविवार को बताया कि डब्ल्यूएचओ प्रमुख टेड्रोस एडनॉम घेब्येयियस ने एक वरिष्ठ यूरोपियाई नेता से कहा है कि वह मानते हैं कि हो सकता है कि वायरस वुहान की एक सीक्रेट  लैब से लीक हो गया था। संभव है कि कोरोना की उत्पत्ति को लेकर वुहान लैब की थ्योरी ही सही हो। डब्ल्यूएचओ ने पहले कहा था कि वायरस की उत्पत्ति को लेकर किसी भी थ्योरी को नकारा नहीं जा सकता। कोरोना वायरस वुहान शहर से फैला  था और इसने वहां बड़ी तबाही मचाई थी। बता दें कि पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तो सीधे तौर पर इस वायरस के लिए चीन को जिम्मेदार ठहराते रहे हैं। डॉक्टर ट्रेडोस ने कहा कि इस वायरस की उत्पत्ति को समझना बेहद जरूरी है, ताकि भविष्य में ऐसे किसी भी महामारी को रोका जा सके। हम इस वायरस की उत्पत्ति से जुड़े हर परिकल्पना पर ध्यान देंगे लेकिन बिना किसी सबूत के कोई निर्णय नहीं लेंगे।
डब्ल्यूएचओ की एक जांच का चीन ने जमकर विरोध किया था, जिसका निष्कर्ष था कि कोरोना वायरस किसी अज्ञात प्रजाति के माध्यम से चमगादड़ में और फिर उससे मनुष्यों में पहुंचा है। हालांकि चीन लगातार जांच से कतराता रहा है।

अन्य समाचार