" /> कश्मीर में  कहर बरपा रहा है कोरोना…अप्रैल में 289 की हुई मौत

कश्मीर में  कहर बरपा रहा है कोरोना…अप्रैल में 289 की हुई मौत

मई के पहले चार दिनों में 152 जिंदगी से हार गए

कोरोना की दूसरी लहर के बीच जम्मू-कश्मीर में बढ़ता मौत का आंकड़ा सभी को डराने लगा है। अप्रैल महीने में प्रदेश में 289 मरीजों की मौत हुई तो मई के पहले ही चार दिनों में, समाचार भिजवाए जाने तक 152 लोग जिंदगी की जंग हार चुके थे।

कोरोना के कहर को रोकने की खातिर चार जिलों में, जम्मू, श्रीनगर, बारामुल्ला और बडगाम में लॉकडाउन जारी है जबकि बाकी जिलों में रात के कर्फ्यू के साथ ही बृहस्पतिवार शाम 7 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक का कोरोना कर्फ्यू भी लागू किया जा चुका है।

पर इन सबके बावजूद न ही मरीजों की संख्या में कोई गिरावट आ रही है और न ही मौतों के आंकड़ों में। दरअसल चार जिलों में पूर्ण लॉकडाउन के बीच सुबह 6 बजे से दोपहर 10 बजे तक दी गई आवश्यक वस्तुओं की खरीददारी और बेचने की छूट के दौरान देखी जानेवाली भीड़ से कभी नहीं लगता कि कोरोना से जंग को जीता जा सकता है।

अप्रैल के अंतिम सप्ताह में ही कोरोना से मरनेवालों का आंकड़ा ऊपर जाने लगा था। प्रथम मई को 47, दो मई को 40 और 3 मई को 51 मरीजों की मौत से प्रत्येक व्यक्ति सिहर उठा है। अधिकतर मौतें दोनों राजधानी शहर जम्मू व श्रीनगर में ही हो रही हैं। आज भी समाचार भिजवाए जाते समय तक 14 मरीज दम तोड़ चुके थे।

यह भी सच था कि कोरोना पर काबू पाने की खातिर पूरे प्रदेश में पूर्ण लॉकडाउन लगाने पर भी प्रशासन व व्यापारी बंटे हुए थे। कई व्यापारी संघ इसके पक्ष में नजर आते थे तो छोटे दुकानदार इसे घातक बताते थे जबकि प्रशासन भी अब कोरोना के बढ़ते मरीजों को देख हाथ इसलिए खड़े करने लगा था क्योंकि चिकित्सा व्यवस्थाएं हांफने लगी हैं।