मुख्यपृष्ठखबरेंकैदियों की कोरोना राहत खत्म! नहीं हाजिर हुए तो दर्ज होगा मामला

कैदियों की कोरोना राहत खत्म! नहीं हाजिर हुए तो दर्ज होगा मामला

नागमणि पांडेय / मुंबई

कोरोना वायरस के चलते राज्य में कैदियों को मिली राहत अब खत्म हो गई है। दरअसल, गृह विभाग ने फरमान जारी किया है कि कोरोना के मद्देनजर जिन कैदियों को कोर्ट ने अंतरिम जमानत दी थी, वो अब खत्म की जा रही है। यानी अब इन सभी कैदियों को जेल में सरेंडर करना होगा। इन सभी कैदियों के १५ दिन में वापस नहीं लौटने पर उन्हें फरार घोषित कर शिकायत दर्ज की जाएगी।
बता दें कि मुंबई के आर्थर रोड जेल सहित राज्य के अन्य जेलों मेंकैदियों की संख्या क्षमता से अधिक थी, जिसे देखते हुए कोरोना संक्रमण को जेल में पैâलने से रोकने के लिए मई, २०२० में कोर्ट ने विचाराधीन कैदियों को रिहा करने का आदेश दिया था। संगीन अपराधों के विचाराधीन १० हजार से अधिक वैâदियों को कोरोना काल में आपातकालीन पैरोल और अस्थाई जमानत पर रिहा किया गया था। अब यह जमानत और नहीं बढ़ेगी। हालांकि गृह विभाग ने सहूलियत के लिए कैदियों को चरणबद्ध तरीके से १५ दिनों में सरेंडर करने के लिए कहा है। सरेंडर नहीं करने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
सरेंडर करते समय आरटीपीसीआर जांच जरूरी
गृह विभाग की तरफ से जारी आदेश में कहा गया है कि रिहाकैदियों को सरेंडर करते समय आरटीपीसीआर जांच जरूरी है। उसके साथ ही बाकी नियमों का भी पालन करना होगा। इस आदेश में यह भी बताया गया है कि कोरोना के दौरान रिहा कैदियों का समय सजा माफी में नहीं गिना जाएगा।

अन्य समाचार