मुख्यपृष्ठनए समाचारनाक में ही निकलेगा कोरोना का दम!

नाक में ही निकलेगा कोरोना का दम!

  • भारत बायोटेक ने तैयार की नेजल वैक्सीन
  • परीक्षण का तीसरा चरण हुआ पूरा

सामना संवाददाता / मुंबई
भारत बायोटेक ने बीबीवी१५४ इंट्रानासल कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण के परीक्षण को पूरा कर लिया है। कंपनी ने कहा है कि परीक्षण में यह सिद्ध हुआ है कि यह वैक्सीन सुरक्षित और इम्यूनोजेनिक है। अब जल्द ही इस वैक्सीन को मंजूरी मिलने की संभावना है। अनुमति के लिए डेटा पेश किया गया है। ऐसे में कहा जा रहा है कि यह वैक्सीन न केवल कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कारगर साबित होगी, बल्कि फेफड़े तक पहुंचने से पहले नाक में ही वायरस का दम निकाल देगी।
भारत बायोटेक के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक कृष्णा एला ने हाल ही में कहा था कि लाइसेंस के लिए जल्द ही आवेदन किया जाएगा। इसमें हमें सकारात्मक प्रतिक्रिया की उम्मीद है। सब कुछ ठीक रहा तो लोगों को इस साल अगस्त तक कोरोना की यह वैक्सीन मिल जाएगी। अगर कोरोना का कोई नया रूप सामने आता है तो उससे लड़ने में मदद मिलेगी। भारत बायोटेक का मानना ​​है कि इंजेक्शन और नाक दोनों के टीके भविष्य में लोगों की जान बचाने में मदद करेंगे। भारत बायोटेक को भरोसा है कि इंजेक्टेबल और नाक के दोनों ही टीके भविष्य में जिंदगी को बचाने में मदद करेंगे।
पूरे शरीर की सुरक्षा करती है नेजल वैक्सीन
पहले यह बताया गया था कि लगभग ४,००० स्वयंसेवकों पर टीके का परीक्षण किया गया था और साइड इफेक्ट का एक भी मामला सामने नहीं आया था। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने पहले इंट्रानासल टीके के क्लिनिकल परीक्षण के बीच बूस्टर डोज के रूप में मंजूरी दी थी। एला ने कहा कि कोई भी इंजेक्टेबल टीका शरीर के केवल निचले हिस्से की रक्षा करता है, जबकि नेजल टीका पूरे शरीर की सुरक्षा करता है।
क्या वैक्सीन पैदा करेगी म्यूकोसल इम्युनिटी?
एम्स के डॉ. संजय राय पहले ही कह चुके हैं कि यदि नेजल वैक्सीन म्यूकोसल इम्युनिटी पैदा कर सकता है, तो यह मानव जाति के लिए एक बड़ी उपलब्धि होगी। कोई भी टीका संक्रमण को रोकने में पूरी तरह कारगर नहीं है। हमें उम्मीद है कि यह टीका आगे के संक्रमण को रोकने के लिए म्यूकोसल इम्युनिटी प्रदान करेगा। देश में टीकाकरण अभी भी जारी है। अब लोगों को बूस्टर डोज भी दिया जा रहा है। इससे कोरोना पर भी काबू पा लिया गया है। कोविड मरीजों की संख्या में कमी के साथ ही मृत्यु दर भी नियंत्रण में आ गई है।

अन्य समाचार