मुख्यपृष्ठनए समाचारसेल्फी पॉइंट में भ्रष्टाचार; सड़कें हैं खस्ताहाल!

सेल्फी पॉइंट में भ्रष्टाचार; सड़कें हैं खस्ताहाल!

  • निर्माण के नाम पर राजनीति
  • जबरन हो रहा है बांध काम
  • जनता के पैसों की बर्बादी

विनोद मिश्र / मीरा-भायंदर
मीरा-भायंदर शहर में इन दिनों मनपा प्रशासन और सत्ताधारी भाजपा की मिलीभगत से ‘सेल्फी
पॉइंट’ कल्चर फल फूल रहा है। शहर के विभिन्न प्रभागों में आम जनता से जुड़ी तमाम मूलभूत सुविधाओं की समस्या होते हुए भी सिर्फ अपना नाम फलक चमकाने के लिए संबंधित नगरसेवकों द्वारा करदाता नागरिकों की गाढ़ी कमाई से अदा की गई टैक्स की रकम को ‘सेल्फी पॉइंट’ के निर्माण पर व्यर्थ खर्च किए जाने की आलोचना बारंबार किए जाने के बावजूद इस पर अंकुश नहीं लगाया जा सका है।
अभी ताजा उदाहरण भायंदर-पूर्व के चंदन पार्क और आशा नगर की है। यहां के फुटपाथ पर हाल ही में इस प्रभाग की भाजपा नगरसेविका शानू गोहिल द्वारा दो सेल्फी पॉइंट का निर्माण कराया गया है, जिसमें कमल के फूल की आकृति बनाई गई है। यहां के स्थानीय निवासी केतन बारिया का कहना है कि यहां भायंदर रेलवे स्टेशन से आरएनपी पार्क जाने के लिए एक ही मुख्य सड़क है। इस सड़क को एक साल के अंदर तीन से अधिक बार मनपा द्वारा बनाया गया। ठेकेदारों द्वारा बार-बार निकृष्ट दर्जे का काम किए जाने की वजह से यह सड़क गड्ढे में तब्दील होती रहती है। इन गड्ढों में बरसात का पानी भर जाने के कारण बच्चे-बूढ़े फुटपाथ पर से आया जाया करते थे। अब वहां सेल्फी पॉइंट बनाकर घेराव कर दिए जाने से सभी को उन गड्ढों में से ही गुजरना पड़ता है। इन गड्ढों की मरम्मत किए जाने की बजाय आगामी चुनाव के मद्देनजर चमकेशगीरी के लिए भाजपा के चुनाव चिह्न कमल युक्त ‘सेल्फी पॉइंट’ बना कर व्यर्थ का खर्चा किया गया है।
बता दें कि पूरे मीरा-भायंदर शहर के कई प्रभागों में जनप्रतिनिधियों द्वारा सेल्फी पॉइंट का निर्माण नगरसेवक निधि से कराया गया है। अमूमन एक सेल्फी पॉइंट पर ८ से १० लाख रुपए खर्च किए जाते हैं। इस वर्ष के मार्च माह तक सेल्फी पॉइंट पर करीब २ करोड़ रुपए से अधिक खर्च किया जा चुका है। जबकि बताया जाता है कि एक सेल्फी पॉइंट के निर्माण पर अधिकतम २ से ३ लाख रुपए की लागत आती है। इस संबंध में शिवसेना महिला शहर संगठक (भायंदर-पश्चिम) तेजस्वी पाटील ने कहा कि फुटपाथ या सड़क को अवरुद्ध कर सेल्फी पॉइंट बनाना और उसमें पार्टी के चुनाव चिह्न का प्रचार करना अनुचित और गलत है। वहीं भाजपा नगरसेविका शानू गोहिल ने अपनी सफाई में कहा कि शहर के सौंदर्यीकरण के लिए सेल्फी पॉइंट का निर्माण किया गया है और कमल राष्ट्रीय फूल है इसमें राजनीति नहीं है।

अन्य समाचार