मुख्यपृष्ठसमाचारयूपी में बेखौफ अपराधी, लाचार प्रशासन,  गोरखपुर में बढ़ा क्राइम!...१२ दिन में...

यूपी में बेखौफ अपराधी, लाचार प्रशासन,  गोरखपुर में बढ़ा क्राइम!…१२ दिन में ७ हत्याएं, ५ लाशें मिली

सामना संवाददाता / गोरखपुर । गोरखपुर में विधानसभा चुनाव की मतगणना के बाद अपराधी ताबड़तोड़ वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। आए दिन मर्डर, लूट, चेन स्नैचिंग की वारदात हो रही हैं। लाशों के मिलने का सिलसिला भी बढ़ गया है। बढ़ते अपराधों के बाद कल शाम को डीजीपी ने वीडियो कांप्रâेंसिंग के जरिए गोरखपुर एडीजी जोन अखिल कुमार, डीआईजी गोरखपुर जे रविंद्र गौड़, बस्ती आईजी राजेश डी मोदक, देवीपाटन रेंज के डीआईजी के साथ बैठक की। डीजीपी ने इन चुनाव के बाद अब तक हुए अपराधों, पुलिस की ओर से की गई गैंगस्टर, जब्तीकरण व गुंडा एक्ट की कार्रवाइयों पर भी फीडबैक लिया।
७ लोगों की हत्या से हड़कंप
बता दें कि पिछले ​१२ दिनों में हत्या की ७ वारदात हुर्इं। इनमें ७ लोगों ने अपनी जान गंवाई। कई हत्याओं में आरोपितों को पुलिस ने पकड़ लिया लेकिन अभी भी साधु की हत्या में पीपीगंज पुलिस खाली हाथ है। जिले में ५ लोगों की लाशें भी मिली हैं। उनकी भी हत्या की आशंका जताई जा रही है। इसके अलावा चेन स्नैचिंग, लूट की ५ घटनाएं हुई हैं। अपराधियों के हौसले इतने बुलंद हैं कि डीआईजी बंगले के सामने ही महिला पुलिसकर्मी से मोबाइल लूट लिया, जबकि महिला पुलिसकर्मी भी एडीजी वैंâपस में रहती है और डीआईजी कार्यालय में दीवान के पद पर है। एसएसपी विपिन ताडा ने बताया कि हत्या व लूट के अधिकांश घटनाओं में गिरफ्तारी हुई है। कुछ केस में आरोपितों की तलाश की जा रही है। जल्द ही उन्हें भी पकड़ लिया जाएगा।

ये हत्याएं हुई
• १० मार्च को सहजनवा में राजेंद्र की गला दबाकर हत्या
•  ११ मार्च को पीपीगंज में साधु हंसराज की गला रेतकर हत्या
• १२ मार्च को सिकरीगंज में अशोक की गोली मारकर हत्या
• १२ मार्च को गुलरिहा में विनोद की गला कसकर हत्या
• १८ मार्च को गोरखनाथ में चाकू मारकर नसीम की हत्या
• १९ मार्च को विद्या पासवान की सिर कूचकर हत्या
• २० मार्च को मजदूर अमीन की पीट-पीटकर हत्या

अन्य समाचार