मुख्यपृष्ठनए समाचारमहाराष्ट्र में अपराधियों को नहीं है कानून का डर! ... इंदापुर तहसीलदार...

महाराष्ट्र में अपराधियों को नहीं है कानून का डर! … इंदापुर तहसीलदार पर दिन-दहाड़े जानलेवा हमला … सुप्रिया सुले ने किया प्रहार

 अब तो जागो गृह मंत्री फडणवीस

सामना संवाददाता / मुंबई
इंदापुर के तहसीलदार श्रीकांत पाटील की कार पर कल शुक्रवार की सुबह अज्ञात हमलावरों ने कायराना तरीके से जानलेवा हमला कर दिया। इस हमले में आंखों में मिर्ची पावडर डालकर पाटील की जमकर पिटाई की गई। साथ ही कार की भी तोड़फोड़ की गई। इस घटना को दिनदहाड़े तहसील कार्यालय से महज कुछ ही दूरी पर अंजाम दिया गया। घटना के सामने आने के बाद से लोगों में आक्रोश देखा जा रहा है। इस बीच राकांपा (शरदचंद्र पवार) की सांसद सुप्रिया सुले ने घटना की घोर निंदा करते हुए अपनी नाराजगी जाहिर की। साथ ही गृहमंत्री पर शाब्दिक प्रहार करते हुए कहा कि गृह मंत्री फडणवीस अब तो जाग जाइए। उन्होंने नाराजगी जताते हुए कहा है कि महाराष्ट्र में अपराधियों में कानून का कोई डर नहीं है।
मिली जानकारी के मुताबिक इंदापुर के तहसीलदार श्रीकांत पाटील शुक्रवार सुबह करीब ११ बजे शहर के पुराने पुणे-सोलापुर मार्ग पर सरकारी वाहन से अपने कार्यालय जा रहे थे। इसी बीच संविधान चौक पर बिना नंबर प्लेट के चार चौपहिया वाहन से आए हमलावरों ने उनके चालक मल्हारी मखरे की आंखों में मिर्ची पावडर डाल दिया और लोहे की रॉड से वाहन पर हमला कर दिया। इसके बाद श्रीकांत पाटील पर भी डंडे से जानलेवा हमला किया गया। इस हमले में वे घायल हो गए। इसके बाद हमलावर तितर-बितर हो गए। यह हमला किसने और क्यों किया? यह अभी तक स्पष्ट नहीं है। घटना की जानकारी जैसे ही पुलिस को मिली तो पुलिस मौके पर पहुंची और जांच शुरू कर दी। गौरतलब है कि तहसीलदार श्रीकांत पाटील अपने कार्यों के लिए जाने जाते हैं। उजनी खाड़ी में डूबे ६ लोगों की तलाश के लिए उन्होंने इंदापुर तालुका के कलाशी गांव में लगातार दो दिनों तक जमे हुए थे। इस दौरान लापता नागरिकों के परिजनों को समझाने की भी कोशिश की थी।
अपराधियों में कोई डर नहीं
सांसद सुप्रिया सुले ने इस संबंध में अपने एक्स एकाउंट से पोस्ट किया है। इस पोस्ट में उन्होंने कहा है कि इंदापुर के तहसीलदार श्रीकांत पाटील पर कुछ अज्ञात लोगों ने हमला किया और उनकी पिटाई की।
सुले ने कहा कि अपराधियों में कोई डर नहीं रह गया है। यह तथ्य कि वे सरकारी अधिकारियों की पिटाई करने की हद तक चले जाते हैं, यह बताने के लिए पर्याप्त है कि राज्य की कानून व्यवस्था की स्थिति कितनी खराब हो गई है। मैंने व्यक्तिगत रूप से तहसीलदार पाटील से संपर्क किया और उनसे बातचीत की। पुलिस को इस पूरी घटना को गंभीरता से लेते हुए तुरंत कार्रवाई करने की जरूरत है। गृह मंत्री जी, अब तो जागो। हमारे राज्य में कारों के नीचे लोगों को कुचला जाता है और आरोपी आपके विभाग की दया पर जमानत पर रिहा हो जाते हैं।

अन्य समाचार