मुख्यपृष्ठनए समाचारकिसानों को फंसा रही हैं फसल बीमा कंपनियां ...शिवसेना ने सिखाया सबक 

किसानों को फंसा रही हैं फसल बीमा कंपनियां …शिवसेना ने सिखाया सबक 

जोरदार तरीके से किया आंदोलन
सामना संवाददाता / मुंबई
चंद्रपुर जिले में खरीफ सीजन के दौरान भारी बारिश के साथ ही आई बाढ़ के कारण सोयाबीन और कपास की फसल को भारी नुकसान हुआ है। चूंकि किसानों ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत फसल का बीमा कराया था। इसलिए ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी को जिले के ४७,००० किसानों को फसल के मुआवजे के लिए २४ करोड़ रुपए वितरित करने थे, लेकिन कंपनी द्वारा मात्र ११ हजार किसानों के खाते में ५ करोड़ रुपए का भुगतान किया गया। इससे नाराज शिवसैनिकों ने कंपनी के कार्यालय में पहुंचकर शिवसेना स्टाइल में विरोध आंदोलन किया। इस दौरान गुस्साए शिवसैनिकों ने ऑफिस की कुर्सियां, कंप्यूटर, प्रिंटर, टेबल को नुकसान पहुंचाया और कंपनी को जोरदार तरीके से सबक सिखाया।
जिले में चालू खरीफ सीजन के दौरान कीटों और बीमारियों के व्यापक संक्रमण के कारण सोयाबीन की फसलें नष्ट हो गईं थीं। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के प्रावधान में प्रतिकूल मौसमी परिस्थितियों के जोखिम की धारा के तहत अधिसूचना लागू की गई थी। इसमें ४६ हजार ९९२ किसान शामिल हैं और ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी ने २३.८० करोड़ रुपए अग्रिम राशि स्वीकृत की है। इसमें से अब तक ११ हजार २७७ किसानों के खाते में ४.९४ करोड़ रुपए जमा हो चुके हैं। कल शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) जिलाप्रमुख संदीप गिरहे के नेतृत्व में शिवसैनिक कंपनी के कार्यालय पहुंचे और अब तक फसल बीमा राशि का भुगतान क्यों नहीं किया है? इसका जवाब मांगते हुए उन्होंने कार्यालय में मौजूद सामग्रियों की तोड़-फोड़ की। साथ ही उन्होंने यह भी चेतावनी दी है कि शिवसेना किसानों के साथ धोखाधड़ी कतई बर्दाश्त नहीं करेगी।

अन्य समाचार