मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनाटैक्सी चालकों की मनमानी पर लगाएं अंकुश

टैक्सी चालकों की मनमानी पर लगाएं अंकुश

मुंबई के भायखला स्थित वीर जीजा माता उद्यान जिसे रानी बाग के नाम से भी जाना जाता है। यह मुंबई शहर का सबसे बड़ा उद्यान तथा प्राणी संग्रहालय है। इस उद्यान में अक्सर आम मुंबईकर अपने पूरे परिवार को लेकर घूमने तथा वन प्राणियों को देखने के लिए आते हैं। इस उद्यान के मेनगेट के सामने एक फ्लाईओवर ब्रिज का सिरा निकलता है, जिसकी वजह से यहां पर गाड़ियों के पार्विंâग की ज्यादा व्यवस्था नहीं होती है। कुछ चुनिंदा टैक्सी चालक उद्यान के गेट पर खड़े रहते हैं। टैक्सी ड्राइवर से अगर यात्री कहीं पर चलने के लिए कहता है तो पहले तो वो चलने से सीधा इनकार कर देते हैं। ज्यादातर टैक्सी चालक लंबी दूरी का भाड़ा चाहते हैं इसलिए कम दूरी का भाड़ा हो तो वो जाने से सीधे मना कर देते हैं। अधिकतर लोग रानी बाग घूमने के बाद मुंबई सीएसएमटी या गेटवे ऑफ इंडिया जाते हैं। कुछ यात्री हाजीअली दरगाह और महालक्ष्मी मंदिर भी जाते हैं। टैक्सी चालक इन जगहों पर जाने के लिए पहले मना करते हैं बाद में अपना फिक्स किराया मांगते हैं जो कि मीटर के किराए से बहुत ज्यादा होता है। अगर यात्री उनसे मीटर के अनुसार भाड़ा लेकर चलने के लिए कहता है तो वो सीधा कहते हैं कि आप दूसरी टैक्सी पकड़ लो और निकल जाते हैं। क्योंकि अधिकतर यात्री अपने परिवार तथा बच्चों के साथ उद्यान में घूमने आते हैं इसलिए वे टैक्सी ड्राइवर को ज्यादा भाड़ा देने के लिए मजबूर हो जाते हैं। प्रशासन से निवेदन है कि टैक्सी चालकों की इस मनमानी के खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई करें।
-अली खान, मस्जिद बंदर, मुंबई

अन्य समाचार

कुदरत

घरौंदा