मुख्यपृष्ठनए समाचारदादा ने आघाड़ी में मंत्री नहीं बनने दिया!... जितेंद्र आव्हाड का सनसनीखेज...

दादा ने आघाड़ी में मंत्री नहीं बनने दिया!… जितेंद्र आव्हाड का सनसनीखेज खुलासा

सामना संवाददाता / मुंबई

राज्य में जब महाविकास आघाड़ी सरकार थी, तो अजीत पवार ने मुझे पालक मंत्री का पद नहीं दिया, यह सनसनीखेज खुलासा राकांपा विधायक जितेंद्र आव्हाड ने किया है। उन्होंने आगे यह भी कहा कि कोरोना होने पर मुझे पालक मंत्री का जो पद मिला था, वह दो घंटे के भीतर ही छीन लिया गया था। मैं उस वक्त पार्टी में इतना शत्रु था। यह बात आव्हाड ने बुधवार को शिर्डी में मीडिया से बातचीत करते समय कही थी। शिर्डी में शरद पवार गुट के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं का दो दिवसीय शिविर चल रहा है। इस शिविर में राकांपा के प्रमुख नेता शामिल हुए थे। माविआ सरकार में एकनाथ शिंदे और अजीत पवार मिलकर पालक मंत्री तय कर रहे थे। इसमें शरद पवार की कोई भूमिका नहीं थी। मैं उस समय अजीत पवार से मिला और उनसे कहा कि मुझे पालक मंत्री का पद दीजिए। उसके बाद एकनाथ शिंदे खुद मुझसे मिले, उन्होंने मुझसे कहा कि हम रायगड जिला चाहते हैं, इसलिए हम आपको पालकमंत्री पद देने को तैयार हैं। लेकिन अजीत पवार रायगड का पालक मंत्री पद छोड़ने को तैयार नहीं हुए, क्योंकि दादा अदिति तटकरे को रायगड जिले का पालक मंत्री बनाना चाहते थे। उस समय मैंने दादा से यही सवाल किया था कि क्या मैं वरिष्ठ पार्टी कार्यकर्ता नहीं हूं। मुझे कोरोना होने पर दो घंटे के अंदर पालक मंत्री पद से हटा दिया गया था।

अन्य समाचार