मुख्यपृष्ठटॉप समाचारदाल, सूजी, चीनी और तेल ‘ईडी’ सरकार का 'घपले' का खेल! ...शिंदे-फडणवीस...

दाल, सूजी, चीनी और तेल ‘ईडी’ सरकार का ‘घपले’ का खेल! …शिंदे-फडणवीस ने किया ‘दिवाली बंपर करप्शन’

•  नेता विपक्ष अंबादास दानवे का आरोप
सामना संवाददाता / मुंबई
राज्य की ‘ईडी’ सरकार ने आगामी दिवाली के मौके पर जनता ‘दिवाली किट’ के नाम पर गिफ्ट देने की योजना बनाई है। आनन-फानन में इसका टेंडर भी जारी कर दिया गया है। इस किट में दाल, चीनी, सूजी और तेल आदि १०० रुपए में दिया जाना है। बस यहीं कमीशन का खेल हो गया। विधान परिषद में नेता विपक्ष अंबादास दानवे ने इस मामले में ‘ईडी’ सरकार पर आरोप लगाते हुए इसे ‘शिंदे-फडणवीस’ का बंपर दिवाली करप्शन बताया है।

गौरतलब है कि ‘ईडी’ सरकार द्वारा आम लोगों के लिए दिवाली को मीठा बनाने के नाम पर घोषित दिवाली पैकेज में बड़ा भ्रष्टाचार होने की खबर है। इस मामले में नेता विपक्ष अंबादास दानवे ने ‘ईडी’ सरकार पर आरोप लगाते हुए मांग की कि यह पैकेज बिना एक रुपया लिए जनता को मुफ्त दिया जाए और पैसा सीधे लाभार्थी के खाते में जमा किया जाए।
गत ४ अक्टूबर को हुई वैâबिनेट की बैठक में राज्य के गरीब लोगों को राशन की दुकानों के माध्यम से ‘दिवाली किट’ उपलब्ध कराने का निर्णय ‘ईडी’ सरकार ने लिया है। लेकिन यह निर्णय लेने से पहले खाद्य विभाग के अंतर्गत दिवाली के अवसर पर खाद्य किट (चना दाल, सूजी, चीनी और तेल) की आपूर्ति की योजना के लिए १ अक्टूबर, २०२२ को ‘एनसीडीईएक्स ईमार्वेâट्स लिमिटेड’ की ओर से एक परिपत्र प्रकाशित किया गया था। महाराष्ट्र सरकार के नागरिक आपूर्ति विभाग के सर्वुâलर में बताया गया है कि टेंडर प्रक्रिया ३ अक्टूबर, २०२२ से शुरू होगी। ५१३ करोड़ २४ लाख रुपए की निविदा प्रक्रिया, वैâबिनेट की बैठक में निर्णय लेने से पहले बहुत जल्दबाजी और कम समय में क्यों की गई, यह किसके लाभ के लिए किया जा रहा है? यह सवाल नेता विपक्ष दानवे ने उठाते हुए आरोप लगाया कि एक एजेंसी के लाभ के लिए खुली प्रतिस्पर्धा के बिना सिर्फ ३ दिनों में वैâबिनेट के पैâसले से पहले निविदा मंगाई गई थी। ‘ईडी’ सरकार की निविदा प्रक्रिया की जांच हुई तो इसमें करोड़ों रुपए का भ्रष्टाचार उजागर होगा, ऐसा आरोप दानवे ने लगाया।

 

जनता के खातों में जमा करो दिवाली गिफ्ट!
राज्य सरकार की वैâबिनेट ने दिवाली पर राशन कार्ड धारकों को १०० रुपए में राशन की दुकानों से एक किलो चना दाल, चीनी, सूजी और एक लीटर पाम तेल देने का निर्णय लिया है। इस पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा है कि बढ़ती महंगाई को देखते हुए सरकार का यह दिवाली गिफ्ट नाकाफी है। उन्होंने कहा कि महंगाई को देखते हुए सरकार को राज्य के हर सामान्य परिवार के बैंक खाते में ३ हजार रुपए दिवाली गिफ्ट के रूप में जमा कराना चाहिए। इस संदर्भ में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे को लिखे पत्र में नाना पटोले ने कहा कि राज्य के लोगों की दिवाली को मीठा बनाना सरकार का कर्तव्य है।

अन्य समाचार