मुख्यपृष्ठनए समाचारमुर्दा खोलेगा अपनी मौत का असली राज ...ढाई महीने पहले हुई थी...

मुर्दा खोलेगा अपनी मौत का असली राज …ढाई महीने पहले हुई थी असलम की मौत

मंगलेश्वर त्रिपाठी / जौनपुर

आपने कई बार चश्मदीद गवाहों की मदद से हत्या का राज खुलते हुए देखा होगा, परंतु यदि मुर्दा ही अपनी हत्या का राज खोले तो आपको जरूर आश्चर्य होगा। इसी तरह जौनपुर शहर के कोतवाली थाना क्षेत्र स्थित रिजवी खां मोहल्ला निवासी रिक्शा संचालक असलम की मौत का राज अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट से खुलेगा। करीब ढाई महीने के बाद शुक्रवार को मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में उसकी लाश कब्र से निकाली गई। अब पोस्टमार्टम कराकर जो रिपोर्ट आएगी, उसी के अनुसार कार्रवाई होगी। प्राप्त जानकारी के अनुसार, ५० वर्षीय असलम पुत्र जब्बार निवासी रिजवी खां कोतवाली सदर जौनपुर का कुछ लोगों से विवाद हो गया था। सात अप्रैल, २०२३ को विवाद हुआ और मारपीट में असलम घायल हो गए थे। एक सप्ताह तक जिला अस्पताल में भर्ती रहने के बाद वह घर गए और कुछ दिन के बाद १५ मई, २०२३ को अपने बहनोई के यहां गाजीपुर गए थे, वहीं पर उनकी मौत हो गई। परिवार के लोगों का आरोप था कि मारपीट में घायल असलम को सीने में गंभीर चोट आई थी। इस वजह से उनकी मौत हुई है। हालांकि, उस दौरान बगैर पोस्टमार्टम कराए ही शव को दफन कर दिया गया था। पुलिस के अनुसार, असलम की पुत्री आसरा की तहरीर पर जावेद, जावेद की पुत्री रोमा, पत्नी मुरक्शा और पुत्र आकिब के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। इसी मामले में शुक्रवार को सिटी मजिस्ट्रेट देवेंद्र सिंह की मौजूदगी में दो महीना २० दिन के बाद हम्जा चिस्ती दरगाह के सामने स्थित कब्रिस्तान से कब्र खोदकर असलम का शव निकाला गया और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया।

अन्य समाचार