मुख्यपृष्ठअपराधदरिंदगी में दिल्ली-1! हर दिन २ नाबालिगों से हो रहा है रेप

दरिंदगी में दिल्ली-1! हर दिन २ नाबालिगों से हो रहा है रेप

  • राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो रिपोर्ट में हुआ खुलासा

सामना संवाददाता / नई दिल्ली
राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की नई रिपोर्ट के मुताबिक देशभर में महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पिछले साल हर दिन दो नाबालिग लड़कियों से बलात्कार हुआ। आंकड़ों से पता चलता है कि दिल्ली में २०२१ में महिलाओं के खिलाफ अपराध के १३,८९२ मामले दर्ज किए गए, जिसमें २०२० की तुलना में ४० प्रतिशत से ज्यादा की महत्वपूर्ण वृद्धि हुई। साल २०२० में यह आंकड़ा ९,७८२ था। रिपोर्ट के अनुसार २०२१ में दिल्ली में इससे पिछले साल की तुलना में सायबर अपराध में १११ प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है। मामले बढ़ने का सबसे बड़ा कारण यौन शोषण बताया गया है। एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार दिल्ली में महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामले सभी १९ महानगरों की श्रेणी में कुल अपराधों का ३२.२० प्रतिशत हैं। दिल्ली के बाद वित्तीय राजधानी मुंबई है, जहां ऐसे ५,५४३ मामले और बंगलुरु में ३,१२७ मामले आए थे। मुंबई और बंगलुरु का १९ शहरों में हुए अपराध के कुल मामलों में क्रमश: १२.७६ प्रतिशत और ७.२ प्रतिशत के मामले है। बीस लाख से ज्यादा आबादी वाले अन्य महानगरीय शहरों की तुलना में २०२१ में राष्ट्रीय राजधानी में अपहरण (३,९४८), पतियों द्वारा क्रूरता (४,६७४) और बालिकाओं से बलात्कार (८३३) से संबंधित श्रेणियों में महिलाओं के खिलाफ अपराध के सबसे ज्यादा मामले दर्ज किए गए। आंकड़ों से पता चलता है कि २०२१ में दिल्ली में हर दिन औसतन दो लड़कियों से बलात्कार हुआ।
सायबर अपराध में १११ प्रतिशत की वृद्धि
आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि साइबर अपराधों को अंजाम देने का मकसद धोखाधड़ी, यौन शोषण और जबरन वसूली करना था। शिकायत करने वालों में ज्यादातर १२ से १७ साल की उम्र की नाबालिग लड़कियां थीं। पुलिस उपायुक्त (सायबर अपराध) के.पी.एस. मल्होत्रा ने कहा कि कोविड-१९ (वैश्विक महामारी) के बाद से हम ऑनलाइन मामले ज्यादा दर्ज कर रहे हैं। हमने वित्तीय धोखाधड़ी और यौन शोषण के मामलों में वृद्धि देखी है। उन्होंने कहा कि हम केवल शिकायतों का ही नहीं, बल्कि सोशल मीडिया पोस्ट का भी संज्ञान लेते हैं।
२०२१ में १३,९८२ मामले हुए दर्ज
रिपोर्ट के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी में २०२१ में महिलाओं के खिलाफ अपराध के १३,९८२ मामले दर्ज किए गए, जबकि सभी १९ महानगरों में कुल अपराध के ४३,४१४ मामले थे। राजधानी में २०२१ में दहेज हत्या के १३६ मामले दर्ज किए गए हैं, जो १९ महानगरों में होने वाली कुल मौतों का ३६.२६ प्रतिशत है। एनसीआरबी ने कहा कि बालिकाओं के मामले में २०२१ में यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण अधिनियम (पॉक्सो) के तहत १,३५७ मामले दर्ज किए गए। आंकड़ों के अनुसार २०२१ में बच्चियों से बलात्कार के ८३३ मामले दर्ज किए गए, जो महानगरों में सबसे ज्यादा हैं।

अन्य समाचार