मुख्यपृष्ठनए समाचार15 लाख करोड़ के कार्पोरेट फ्रॉड की भरपाई के लिए हुई थी...

15 लाख करोड़ के कार्पोरेट फ्रॉड की भरपाई के लिए हुई थी नोटबंदी-अखिलेश यादव

मनोज श्रीवास्तव / लखनऊ।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पार्टी कार्यालय में सात वर्षीय खजांची का जन्मदिन मनाया और सभी के सामने केक काटा। उन्होंने कहा कि नोटबंदी से काला धन खत्म होने की बात कही गई थी। सात साल बाद हालात सभी के सामने हैं। उन्होंने कहा कि 15 लाख करोड़ रुपए का कार्पोरेट फ्रॉड हुआ था उसकी भरपाई के लिए नोटबंदी की गई थी। इसके जरिए भाजपा ने गरीबों का पैसा अमीरों की तिजोरी में भर दिया। इस दौरान नोटबंदी की लाइन में पैदा हुए खजांची का जन्मदिन हम लोग मनाते हैं। आज खजांची बड़ा हो गया है और बोलने लगा है। उसके बुरे और परेशानी के दिनों में सपा ने उसका साथ दिया।

8 नवंबर 2016 को केंद्र की मोदी सरकार ने नोटबंदी का एलान किया था। घोषणा के बाद एक हजार और पांच सौ के नोट चलन से बाहर हो गए। दावा किया गया था कि इससे कालाधन समाप्त हो जाएगा।अखिलेश यादव ने कहा कि आंकड़े बताते हैं कि कैश लेनदेन कम होने के बजाय 33 लाख करोड़ हो गया। जहां 18 फीसदी जीएसटी है, वहां कैश में लेनदेन ही हो रहा है। भाजपा के लोगों ने अयोध्या में जमीन खरीदने के लिए रजिस्ट्री करवाई वो भी कैश में ही है। नोटबंदी में जितना पैसा निकला उसे सपा का बताया गया। कानपुर इत्र कारोबारी के घर का पैसा सपा का बताया गया। आज हमें पैसे की सख्त जरूरत है, उसे वापस कर दो।

भाजपा की सरकार ने पहले दो हजार के नोट छापे और फिर बंद कर दिए। यूपी की डायल 112 सेवा की महिला कर्मचारियों के धरने पर कहा कि भाजपा सरकार संवेदनहीन है। सपा ने इसे बनाने से पहले काफी रिसर्च की थी। न्यूयॉर्क की टेक्नोलॉजी देखी। इसे खास तौर पर डेवलप किया गया। उन्होंने प्रोफेसर वेंकट को धन्यवाद दिया कि उन्होंने दुनिया के कई देशों की पुलिस का काम देखा। उन्होंने कहा कि यूपी सरकार ने टेंडर देकर कंपनी को बदल दिया। महिला कर्मियों को ऐसे ही बेसहारा छोड़ दिया गया। उन्होंने पूछा कि क्या सरकार के पास इतना पैसा नहीं है कि तीन या छह हजार तक वेतन बढ़ा दें। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सपा की सरकार आएगी तो महिला कर्मियों का वेतन दोगुना किया जाएगा।

अन्य समाचार