मुख्यपृष्ठसमाचारसदन की गरिमा का हुआ नाश... विधायक फांके गुटखा, खेले ताश

सदन की गरिमा का हुआ नाश… विधायक फांके गुटखा, खेले ताश

सामना संवाददाता / लखनऊ
सदन को लोकतंत्र का मंदिर कहा जाता है और मंदिर-मस्जिद की राजनीति करनेवाले भाजपाई विधायकों द्वारा गुटखा फांककर एवं ताश खेलकर यूपी में सदन की गरिमा का नाश किए जाने का मामला सामने आया है। भाजपाई विधायकों की ऐसी भद्दी हरकत पर विपक्ष के नेता अखिलेश यादव ने तीखा तंज कसा है।
बता दें कि केंद्र और कई राज्यों में सत्तारूढ़ भाजपा के लोग हिंदुत्व, देशभक्ति, संविधान और विधायिका के सम्मान का दूसरों को खूब उपदेश देते हैं लेकिन उत्तर प्रदेश विधानसभा की एक ऐसी तस्वीर सामने आई है, जिसमें खुद भाजपा के ही विधायक सदन की गरिमा को तार-तार करते नजर आए। भाजपा के दो विधायकों का ऐसा वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक मोबाइल पर ताश खेलते दिख रहे हैं और दूसरे विधायक गुटखा फांकते हुए नजर आ रहे हैं। लोग भाजपा की कथनी और करनी को लेकर जमकर आलोचना कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश विधानमंडल का मानसून सत्र खत्म हो चुका है। इसके बाद भाजपा के दोनों विधायकों का वीडियो वायरल हुआ है। दावा है कि ये वीडियो इसी मानसून सत्र का है। वीडियो में एक विधायक मोबाइल पर गेम खेलते नजर आ रहे हैं तो दूसरे रजनीगंधा और तुलसी जर्दा का मिश्रण कर रहे हैं। महोबा से भाजपा विधायक सदन में मोबाइल पर वीडियो गेम खेल रहे थे तो झांसी से भाजपा विधायक रजनीगंधा के साथ तंबाकू खा रहे थे। प्रमुख विपक्षी दल समाजवादी पार्टी ने इसे लेकर भाजपा और योगी सरकार पर हमला बोला है। नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि विधानसभा के सत्र में भाजपा विधायक ताश खेल रहे हैं और प्रदेश का नाश कर रहे हैं। भाजपा के उन विधायक जी को धन्यवाद, जिन्होंने पीछे से ये वीडियो बनाकर व वायरल कर जनहित का काम किया है। अब देखना ये है कि मुख्यमंत्री जी इन विधायक जी पर नैतिक बुलडोजर कब चलाएंगे? सपा ने कहा कि इन लोगों के पास जनता के मुद्दों के जवाब नहीं हैं और सदन को अपने मनोरंजन का अड्डा बना रहे हैं। इन विधायकों का यह कृत्य बेहद निंदनीय और शर्मनाक है। गौरतलब है कि सपा मानसून सत्र के पहले दिन से ही विरोध जताते हुए लगातार किसी न किसी मुद्दे पर सरकार को घेर रही थी। अंतिम दिन शुक्रवार को अपेक्षित जवाब न मिलने का आरोप लगाकर नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव के नेतृत्व में सपा के विधायकों ने वॉकआउट किया था। इसके बाद दूसरे सत्र को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया।

अन्य समाचार