मुख्यपृष्ठनए समाचार`अवैध' सरकार के कारण मुंबई में रुका विकास कार्य! आदित्य ठाकरे का...

`अवैध’ सरकार के कारण मुंबई में रुका विकास कार्य! आदित्य ठाकरे का प्रहार

सामना संवाददाता / मुंबई 
मुंबई-महाराष्ट्र के विकास के लिए महाविकास आघाड़ी सरकार के माध्यम से कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। हालांकि वर्तमान की अवैध सरकार की स्थगन नीति के चलते मुंबई का विकास कार्य ठप हो गया है। इस तरह का प्रहार शिवसेना नेता व युवासेनाप्रमुख आदित्य ठाकरे ने नई सरकार पर किया। हालांकि मौजूदा ‘अस्थायी’ वाली सरकार में मुंबई की आवाज कहीं नहीं है। विकास पर नहीं, बल्कि राजनीति पर ‘फोकस’ किया जा रहा है। इस तरह की टिप्पणी भी उन्होंने की।
मुंबई के यातायात को सुचारु और तेज बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभानेवाले मुंबई शिवड़ी-न्हावा-शेवा परियोजना का कल आदित्य ठाकरे ने दौरा किया। इस दौरान वे बोल रहे थे। यह शिवड़ी से रायगड़ में न्हावा-शेवा बंदरगाह को जोड़नेवाला २२ किमी लंबा पुल है, जो हिंदुस्थान के पहले सबसे बड़े समुद्री पुल के रूप में जाना जाएगा। इस परियोजना के ‘एमटीएचएल’ प्रकल्प का पहला गर्डर तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे के हाथों जनवरी २०२२ को रखा गया था। उन्होंने यह भी कहा कि इस परियोजना के शुरुआत से ही हर चरण पर हम नजर रखे हुए हैं। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि कुछ अदूरदर्शी मंडली की कपटी साजिश के कारण महाविकास आघाड़ी सरकार गिर गई। इसके बाद भी हमारे द्वारा ली जा रही साप्ताहिक बैठकों और मासिक निरीक्षण के कारण साल २०२० से चल रही परियोजना का लगभग ५५ प्रतिशत काम पूरा हो चुका है। उन्होंने यह भी कहा कि आज सत्ता में मुंबई का प्रतिनिधित्व भले ही नहीं है, फिर भी हम मुंबई के लिए हमेशा आवाज उठाते रहेंगे। मुंबई और महानगर क्षेत्र की कनेक्टिविटी का अद्यतन विकल्प देनेवाले ‘एमटीएचएल’ प्रकल्प के लिए हम आज भी कटिबद्ध हैं।
महत्वपूर्ण साबित होगा वरली-शिवड़ी कनेक्टर
आदित्य ठाकरे ने विश्वास व्यक्त किया कि मुंबई की ट्रैफिक को सुचारु और वेगवान बनाने में मुंबई के पूर्वी तट को पश्चिमी तट से जोड़नेवाला वर्ली-शिवड़ी कनेक्टर महत्वपूर्ण साबित होगा। उन्होंने कहा कि इस परियोजना के लिए पहल करने से लेकर हर सप्ताह उसकी प्रगति की समीक्षा लेने तक की हर स्तर पर प्रगति देखकर मुझे बहुत खुशी हो रही है। कोई भी मूलभूत परियोजना का सपना देखना और उसका क्रियान्वयन करने में शाश्वत विकास, परियोजनाग्रस्तों का पुनर्वसन और न्यूनतम व्यवधान आदि जिम्मेदारी ये प्रमुख चरण हैं। उन्होंने कहा कि इन सभी जिम्मेदारियों को हमने पूरा किया, इसका संतोष महसूस हो रहा है।

अन्य समाचार