मुख्यपृष्ठसमाचारइटावा में दर्ज हुई एफआईआर.... डॉक्टर ने हिंदू युवक को बनाया मुसलमान!

इटावा में दर्ज हुई एफआईआर…. डॉक्टर ने हिंदू युवक को बनाया मुसलमान!

सामना संवाददाता / इटावा । यूपी के इटावा में एक डॉक्टर पर आरोप लगा है कि उसने अपने कर्मचारी को कथित रूप से मुसलमान बनाने का काम किया है। अब पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। पुलिस के अनुसार इटवा थानाक्षेत्र के युवक ने आरोप लगाया है कि वह एक निजी क्लीनिक में काम करता था, जहां डॉ. फारूकी ने २०१९ में उसे मुसलमान बनने के लिए मजबूर कर दिया। युवक ने कहा कि उससे कुरान की आयतें पढ़वायी गईं और करम हुसैन के नाम से उसका आधार कार्ड बनवाया गया।
पुलिस ने भी नहीं की मदद
पीड़ित ने यह भी आरोप लगाया कि उसने सरकारी अधिकारियों एवं पुलिस से मिलने का प्रयास किया लेकिन उसे इंसाफ नहीं मिला। पुलिस के अनुसार युवक की शिकायत पर डॉक्टर और दो अन्य पर उत्तर प्रदेश अवैध धर्मांतरण रोकथाम कानून एवं धोखाधड़ी को लेकर मामला दर्ज किया गया है।
जबरन धर्मांतरण है अपराध
देश में जबरन धर्मांतरण अपराध है। यूपी में योगी सरकार आने के बाद इसमें और कड़ाई कर दी गई है। योगी सरकार ने जबरन अंतरधार्मिक शादी रोकने के लिए कानून बनाया था। इसे गैर कानूनी धर्मांतरण विधेयक-२०२० नाम दिया गया। इसमें जबरन धर्म परिवर्तन करवाने वालों को लिए कड़ी सजा का प्रवाधान किया गया है। इसके मुताबिक जबरन धर्म परिवर्तन करवाना संज्ञेय और गैर जमानती अपराध है।
बैंक पासबुक पर है ओरिजनल नाम
शिकायतकर्ता ने यह भी बताया कि बैंक में पासबुक पर उसका वास्तविक नाम दर्ज है। उसने आरोप लगाया कि जब वह अपने नए आधार कार्ड में नाम ठीक करवाने की कोशिश की तब डॉक्टर ने उसे कथित रूप से जान से मारने की धमकी दी थी।

अन्य समाचार