मुख्यपृष्ठनए समाचारराज्य में कुत्तों का कहर! हर घंटे ९० लोगों को काटते हैं,...

राज्य में कुत्तों का कहर! हर घंटे ९० लोगों को काटते हैं, हाई कोर्ट ने जताई चिंता

सामना संवाददाता / मुंबई
राज्य में कुत्तों का कहर काफी बढ़ गया है। हाल यह है कि यहां हर घंटे ९० लोगों को कुत्ते काटते हैं। इनमें मुंबई-ठाणे में सबसे ज्यादा कुत्ते काटने की घटनाएं सामने आई हैं। सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग ने हाल ही में यह आधिकारिक आंकड़ा जारी किया है। इस बीच हाई कोर्ट ने कुत्तों के काटने की घटनाओं पर चिंता जताते हुए पशुप्रेमियों को सावधान रहने की सलाह दी है।
हाई कोर्ट ने कहा है कि कुत्तों को अवश्य पालें, हम आपकी दयालुता की सराहना करते हैं। लेकिन सावधान रहें कि कुत्ते किसी को काट न लें। कोर्ट ने पशुप्रेमियों को जिम्मेदारी से न भागने की ‘संवेदनशील’ सलाह दी। अदालत ने कुत्ते के काटने के मामले में एक महिला पशुप्रेमी के खिलाफ मामला रद्द करने से इनकार करते हुए यह रुख अपनाया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार, जनवरी से जून तक महाराष्ट्र में आधिकारिक तौर पर कुत्ते के काटने के ३,८९,०६५ मामले दर्ज किए गए। ४१,८२८ मामलों के साथ मुंबई की हिस्सेदारी सबसे अधिक है। इसके बाद ठाणे में ३६,०६० मामले सामने आए हैं तो पालघर में १३,३०१ और रायगढ़ में १३,५९८ मामले हैं। इसी बीच राज्य में १७ मौतें हुईं। हालांकि, कुत्ते के काटने के मामलों का वास्तविक आंकड़ा अधिक हो सकता है, क्योंकि निजी अस्पताल भी बड़ी संख्या में ऐसे मरीजों का इलाज करते हैं। वे अक्सर मनपा व प्रशासनिक अस्पतालों को इसकी सूचना नहीं देते हैं।
मनपा की निष्क्रियता पर चिंता
आंकड़ों के अनुसार, मुंबई में कुत्ते के काटने के मामले कोरोना के बाद काफी बढ़ गए हैं। २०१९ में ७४,२७९ मामलों की तुलना में २०२२ में ७८,७५६ मामले सामने आए। २०१८ और २०२२ के बीच शहर में ३.५४ लाख मामले दर्ज किए गए थे। मामलों में उछाल के बावजूद नसबंदी बहुत पीछे चल रही है। वर्तमान में छह गैर सरकारी संगठन नसबंदी और टीकाकरण अभियान में काम कर रहे हैं।

अन्य समाचार

लालमलाल!