मुख्यपृष्ठटॉप समाचारमुंह छिपाकर भागे डंकी!

मुंह छिपाकर भागे डंकी!

-मुंबई एयरपोर्ट पर ४ बजे सुबह लैंड हुआ विमान…फ्रांस से आए प्लेन में २७६ यात्री थे सवार

– अलग-अलग रूट से पहुंचना था मैक्सिको

-पुलिस कर रही है एजेंट की तलाश

सामना संवाददाता / मुंबई

मानव तस्करी के शक के चलते फ्रांस में ४ दिनों तक रोक कर रखा गया विमान कल सुबह ४ बजे २७६ यात्रियों के साथ मुंबई एयरपोर्ट पर र्लैड हुआ। इस विमान में २७६ ‘डंकी’ सवार थे। अवैध तरीके से विदेश जानेवाले लोगों को ‘डंकी’ कहा जाता है। हाल ही में इसी विषय पर बनी अभिनेता शाहरुख खान की फिल्म ‘डंकी’ रिलीज हुई है, जिसमें इमिग्रेशन के अवैध व अमानवीय तरीके को दिखाया गया है। विमान के एयरपोर्ट पर लैंड करने के बाद इन सभी २७६ हिंदुस्थानियों से कड़ी पूछताछ की गई। इसके बाद ये सभी ‘डंकी’ अपना मुंह छिपाते हुए एयरपोर्ट के बाहर निकले।
बता दें कि रोमानिया का ये विमान फ्रांस के वैट्री एयरपोर्ट से २५ दिसंबर को दोपहर ढ़ाई बजे रवाना हुआ था। विमान में मौजूद ज्यादातर यात्री हिंदी और तमिल बोलने वाले बताए जा रहे हैं। जानकारी के अनुसार, इन यात्रियों में से कई पंजाब और गुजरात के रहने वाले बताए जा रहे हैं। एयरपोर्ट पर पहुंचते ही सभी यात्री मीडिया के कैमरे से बचते नजर आए। लोगों से जब बात करने की कोशिश की गई तो यात्रियों ने बात करने से मना कर दिया, वहीं कुछ यात्री अपना चेहरा छिपाने लगे। यह विमान निकारागुआ जा रहा था। माना जा रहा है कि मैक्सिको में इमिग्रेशन की सख्ती के कारण ये निकारागुआ जाते और वहां से मैक्सिको होते हुए अमेरिका में दाखिल होते। बीते २१ दिसंबर को कथित तौर पर सेंट्रल अमेरिका के निकारागुआ जाने के लिए रोमानिया स्थित लीजेंड एयरलाइंस का विमान दुबई से निकला था। इसमें ११ नाबालिग समेत कुल ३०३ हिंदुस्थानी यात्री थे। फ्रांस के वैट्री एयरपोर्ट पर विमान ईंधन लेने के लिए रुका।
इस दौरान फ्रांस की अथॉरिटी को गुप्त जानकारी मिली कि बड़ी संख्या में अवैध तरीके से प्रवासी भेजे जा रहे हैं। संदेह के आधार पर टिप ऑफ मिलने के बाद सभी यात्रियों से फ्रांस के अधिकारियों ने गहन पूछताछ की। पूछताछ में संतुष्ट जवाब मिलने के बाद ३०३ यात्रियों में से २७६ यात्रियों को वापस भेजा गया है। सूत्रों के अनुसार दो नाबालिगों सहित २५ लोगों ने फ्रांस में आश्रय के लिए आवेदन किया है और वे अभी फ्रांस में ही हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक फ्रांस से मुंबई लौटी फ्लाइट पर केंद्रीय एजेंसियों की निगाह है। सभी पैसेंजर के पहचान पत्रों की जांच करके उनका बयान रिकॉर्ड किया गया। इमिग्रेशन पास, पासपोर्ट, हिंदुस्थानी पहचान पत्र, पता, सेंट्रल अमेरिका में जहां भी जा रहे थे वहां का पता, फ्लाइट टिकट, दुबई तक जाने का रूट इन सभी की जांच कर उसकी जानकारी रिकॉर्ड करने के बाद ही जांच एजेंसियों ने यात्रियों को मुंबई एयरपोर्ट से निकलने की इजाजत दी। सूत्रों के अनुसार, सभी यात्री एक जगह दुबई में इकट्ठा हुए, वहां से निकारागुआ जाने वाले चार्टर प्लेन से एक साथ रवाना हुए। इन सभी को एक साथ किसने संपर्क किया, किसने टिकट मुहैया कराई उस एजेंट की जांच की जा रही है।
सूत्रों के अनुसार, यदि केंद्रीय एजेंसियां इस मामले में केस दर्ज करती हैं तो सभी लौटे यात्री मामले में विटनेस होंगे, जो कि फिलहाल पीड़ित हैं। फर्जी पहचान पत्र अगर बरामद हुए तो उन्हें बनाने वाले एजेंट्स की जानकारियां खंगाली जाएंगी। इन सभी पैसेंजर की ट्रैवल हिस्ट्री भी नोट की जाएगी। सभी यात्रियों को उनके स्टेटमेंट रिकॉर्ड करने के बाद मुंबई एयरपोर्ट से रवाना होने और जांच से जुड़े किसी भी जानकारी को अन्य व्यक्तियों से साझा न करने के लिए निर्देश दिए गए हैं।

अन्य समाचार