" /> डोंट ब्रेक सिस्टम, बेड मैं दिलाऊंगा – मनपा आयुक्त

डोंट ब्रेक सिस्टम, बेड मैं दिलाऊंगा – मनपा आयुक्त

 विश्व की तुलना में सबसे कम मौत मुंबई में
 कोरोना की दूसरी लहर में मात्र ०.२³ मृत्यु दर
 अस्पतालों में ७ हजार बेड्स रिक्त
 २२ हजार बेड्स एक्टिव करने का निर्देश
 रोजाना एक लाख टीकाकरण का लक्ष्य

कोरोना की दूसरी लहर में बढ़ रहे मामलों को लेकर मुंबईवासियों को टेंशन नहीं लेने की सलाह मनपा आयुक्त इकबाल सिंह चहल ने दी है। उन्होंने आश्वस्त किया कि मनपा के पास फिलहाल ७ हजार बेड्स रिक्त हैं और २२ हजार बेड्स एक्टिव करने की क्षमता है। लोगों को कोरोना कंट्रोल करने में सहयोग करना है। नियम नहीं तोड़ने हैं। कोरोना पॉजिटिव मरीज को वॉर्ड वॉर रूम से ही बेड्स लेना है। यदि उन्हें बेड्स नहीं मिलता है तो मुझे सीधे फोन करें, उन्हें बेड मैं दिलाऊंगा। उन्होंने माना कि बड़ी सख्या में मरीज मिल रहे हैं लेकिन पूरे विश्व में मुंबई ही ऐसा शहर है, जहां कोरोना मरीजों की मृत्यु दर सबसे कम अर्थात ०.२ है।
मंगलवार को बीकेसी में कोरोना टीका लेने के बाद चहल ने पत्रकार परिषद में उक्त बातें कहीं। उन्होंने कहा कि पिछले ४८ दिनों में ८५ हजार कोरोना मरीज मिले हैं, जिनमें ६९,५०० मरीज लक्षण विहीन पाए गए। मात्र १५,५०० मरीज ही लक्षण वाले थे, इनमें से मात्र ८ हजार मरीजों को ही अस्पतालों में बेड्स की आवश्यकता हुई।
उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर १० फरवरी को शुरू हुई, तब ३,५०० बेड्स भरे थे अब ९,९०० बेड्स फुल हो गए हैं, जिनमें १,५०० बेड्स मुंबई से सटे उपनगरों के मरीजों को आवंटित हैं। बेड्स उपलब्ध कराने की पूरी तैयारी है। कोविड वैंâप में भी बेड्स एक्टिव करने का निर्देश दिया गया है। ५,५०० से अधिक आईसीयू बेड्स हैं तो २२ हजार तक कुल बेड्स तैयार किए जा रहे हैं, इसमें नए बेड्स नहीं लगाए जा रहे हैं, जिन्हें बंद कर दिया गया था, उन्हें ही एक्टिव कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि कोरोना की रिपोर्ट मरीजों के साथ शेयर नहीं की जाएगी। लोगों से भी अपील है कि लैब से सीधे रिपोर्ट प्राप्त न करें। लोगों को वॉर्ड वार रूम से ही बेड्स उपलब्ध कराए जाएंगे। यदि उसके बाद भी किसी को बेड नहीं मिला तो मुझे फोन करें।
टीकाकरण और जांच पर जोर
राज्य में रोजाना ५० हजार तक लोगों की कोरोना जांच हो रही है तो वहीं ५० से ६० हजार लोगों को रोजाना टीका दिया जा रहा है। अब तक १० लाख से अधिक लोगों को टीका दिया गया है। मुंबई में ४० लाख लोगों को ही टीका की अधिक आवश्यकता है। २३ लाख वरिष्ठ नागरिक हैं, ४ लाख प्रâंटियर, ३ लाख स्वास्थ्य कर्मचारी हैं। इसके अलावा ४५ से अधिक आयु वालों को टीका दिया जा रहा है। लोग कोरोना नियमों का पालन करें, मास्क ठीक से पहनें। मुंबई में २४ लाख लोगों ने मास्क की लापरवाही के चलते ४८ करोड़ रुपए का दंड भरा है।