मुख्यपृष्ठग्लैमर‘बोल्ड इमेज का बुरा नहीं मानती!’ : मल्लिका शेरावत

‘बोल्ड इमेज का बुरा नहीं मानती!’ : मल्लिका शेरावत

फिल्म ‘ख्वाहिश’ से बॉलीवुड में डेब्यू करनेवाली मल्लिका शेरावत को फिल्म ‘मर्डर’ से लोकप्रियता मिली। हरियाणा के रोहतक जिले से बॉलीवुड का सफलतापूर्वक सफर करनेवाली ग्लैमरस अभिनेत्री मल्लिका शेरावत इन दिनों फिल्म ‘आरके/आरकेवाय’ को लेकर चर्चा में हैं। स्क्रीन पर अपनी बोल्ड इमेज से दर्शकों का दिल धड़कानेवाली मल्लिका बेहद मृदुभाषी हैं। पेश है, मल्लिका शेरावत से पूजा सामंत की हुई बातचीत के प्रमुख अंश-

  • फिल्म ‘आरके/आरकेवाय’ को स्वीकारने की क्या वजह रही?
    फिल्म के निर्देशक रजत कपूर मेरे लिए सबसे बड़ा आकर्षण हैं। बड़े बजट की फिल्म न होने के बावजूद स्मॉल बजट की ये फिल्म आपको बांधे रखती है। इस फिल्म की कहानी और किरदार ने मुझे बेहद प्रभावित किया। फिल्म में विनय पाठक, रणबीर शौरी जैसे कलाकारों के साथ काम करने से बहुत कुछ सीखने को मिला।
  • इस किरदार को निभाने के लिए क्या आपको ऑडिशन भी देना पड़ा?
    हां, इसके लिए मैंने ऑडिशन दिया। १९६० की अभिनेत्री गुलाबो पर मेरा किरदार आधारित है। मैंने फिल्मों सहित उनकी तस्वीरों को देखा। उन्हें ऑब्जर्व करते हुए मुझे सूझा कि मेरे किरदार का लुक कैसा  होना चाहिए? गुलाबो में एक गजब की कशिश और खास अदा थी। ऐसा किरदार मिलना भाग्य की बात है।
  • २० वर्षों की जर्नी ने आपको क्या सिखाया?
    जब मैं पहली बार मुंबई आई तो मैंने हजारों लोगों की भीड़ देखी, जो अपने-अपने दफ्तरों में जाने के लिए बस भागे जा रहे थे। इस दृश्य को देखकर मैंने सोचा कि अपने सपनों को पूरा करने के लिए मेहनत करने के साथ ही आपको उनका पीछा करना पड़ेगा। कोई दूसरा व्यक्ति आपके सपनों को पूरा नहीं करेगा। बिना किसी फिल्मी कनेक्शन के मैंने खुद को साबित किया।
  • अलग-अलग जॉनर की फिल्में करने के बाद भी आपको बोल्ड भूमिकाओं के लिए जाना जाता है?
    अपनी बोल्ड इमेज का मैं बुरा नहीं मानती। वैसे तो ऑन स्क्रीन चुंबन दृश्य कई अभिनेत्रियों ने दिए लेकिन मेरी इमेज बोल्ड बन गई। जब मैंने बोल्ड किरदार करना शुरू किया तब बोल्ड किरदार करने का प्रचलन नहीं था। ग्लैमरस रोल करने के बाद अब मैं गंभीर भूमिकाएं करना चाहती हूं।
  • बोल्ड किरदार निभानेवाले कलाकारों को अक्सर ट्रोल किया जाता है?
    सोशल मीडिया पर निगेटिविटी ज्यादा है। लोग किसी को नहीं छोड़ते लेकिन मैं ध्यान नहीं देती। बोलनेवाले तो बोलते रहेंगे। मेरे लिए खुद के काम पर फोकस करना बहुत मायने रखता है।
  • आप बहुत स्पष्टवादी हैं?
    मैंने साइकोलॉजी में डिग्री हासिल की है। मैं शुरू से पढ़ती आई हूं। किताबें मेरी दोस्त हैं। मैं विवेकानंद को अपना गुरु मानती हूं। मेंटल स्ट्रेंथ होना हर इंसान के लिए आवश्यक है। अगर आप दिल से साहसी नहीं हैं तो समाज आपको खा लेगा। मैं अपनी बातों को शुरू से बेझिझक कहती आई हूं।
  • आपकी लव लाइफ कैसी चल रही है? शादी कब करने का इरादा है?
    शादी तो मैं कल कर लूं लेकिन समाज में इंडिपेंडेंट पत्नियां नहीं चलतीं। ऐसी बीवी किसी को पसंद नहीं जो दबंग हो, अपनी बात साफ-साफ कहती हो और वक्त पड़ने पर अपना स्टैंड लेती हो। विदेशों में भी यही मानसिकता है और यहां भी। करूं तो क्या करूं? जब शादी के योग्य लड़का मिलेगा शादी हो जाएगी। मैं क्यों चिंता करूं?
  • बड़े सितारों के साथ काम न कर पाने का क्या आपको मलाल है?
    बड़े कलाकारों के बिना भी मेरी जिंदगी और मेरा करियर शानदार चल ही रहा है। मैंने नाना पाटेकर, अनिल कपूर के साथ ब्लॉकबस्टर फिल्म ‘वेलकम’ की। २० वर्षों से मेरा करियर बॉलीवुड और हॉलीवुड में चलता आया है। मैंने जैकी चान के साथ ही हॉलीवुड एक्टरों के साथ भी फिल्मों में काम किया। बराक ओबामा से मेरी तीन बार मुलाकात हुई। एक अच्छी जिंदगी लॉस एंजेलिस में गुजारने के बाद मैं किसी के पास जाकर कैसे काम मांगूं? जब संयोग होगा तब सभी के साथ काम कर लूंगी। मुझे इसका कोई मलाल नहीं है।

अन्य समाचार

ऊप्स!