मुख्यपृष्ठसमाज-संस्कृतिडॉ. रामदरश मिश्र को किया गया सम्मानित

डॉ. रामदरश मिश्र को किया गया सम्मानित

सामना संवाददाता / मुंबई

हिंदी के वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. रामदरश मिश्र को उत्तर मुंबई के सांसद गोपाल शेट्टी, पूर्व राज्यमंत्री अमरजीत मिश्र व महाराष्ट्र हिंदी साहित्य अकादमी के कार्याध्यक्ष डॉ. शीतलाप्रसाद दुबे ने नई दिल्ली के द्वारका स्थित ब्रह्मा अपार्टमेंट में मां सरस्वती की प्रतिमा देकर व शाल ओढ़ाकर सम्मानित किया।
उल्लेखनीय है कि कविता को छोटी-बड़ी, गीत, नई कविता अनेक शैली में लिखनेवाले मिश्र ने उपन्यास, कहानी, गजल, यात्रा वृतांत, निबंध, डायरी, संस्मरण आदि विधाओं में उनका साहित्यिक योगदान बहुमूल्य है। डॉ. मिश्र ने इस अवसर पर अपने साहित्यिक अनुभव भी साझा किए और गुजरात से शुरू हुई साहित्यिक यात्रा अब दिल्ली तक पहुंची है। उन्होंने गुजराती भाषियों के मन में हिंदी साहित्य के प्रति अनुराग की प्रशंसा की।
महाराष्ट्र फिल्मसिटी के उपाध्यक्ष रह चुके अमरजीत मिश्र ने कहा कि अपने परिवेशगत अनुभवों एवं सोच को सृजन में उतारते हुए उन्होंने गांव की मिट्टी, सादगी और मूल्यधर्मिता को अपनी रचनाओं में व्याप्त होने दिया, जो उनके व्यक्तित्व की पहचान भी है। सांसद गोपाल शेट्टी ने डॉ. रामदरश मिश्र के दीर्घायु होने व स्वस्थ जीवन की ईश्वर से प्रार्थना की और कहा कि एक भारत श्रेष्ठ भारत का इससे बड़ा दृष्टांत और क्या होगा कि एक दक्षिण भारतीय गोपाल शेट्टी को हिंदी के पुजारी रामदरश मिश्र के जीवन के सौवें वर्ष में प्रवेश करने पर उनका सम्मान करने का अवसर प्राप्त हुआ। महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी के कार्याध्यक्ष डॉ. शीतलाप्रसाद दुबे ने कहा कि हिंदी साहित्य का सौभाग्य है कि इस उम्र में भी आज भी डॉ. मिश्र की रचनाधर्मिता पूरे उफान पर है।

अन्य समाचार