मुख्यपृष्ठनए समाचारअंकल सैम पर ड्रैगन का डर! हिंदुस्थानियों के लिए दूर हुआ अमेरिका

अंकल सैम पर ड्रैगन का डर! हिंदुस्थानियों के लिए दूर हुआ अमेरिका

एजेंसी / नई दिल्ली
अमेरिका और विस्तारवादी चीन की व्यावसायिक एवं सामरिक प्रतिद्वंद्विता वर्षों से चली आ रही है। हालांकि हाल के कुछ वर्षों में आर्थिक एवं सामरिक दृष्टिकोण से चीन ने उल्लेखनीय विकास किया है। ड्रैगन के उर्फ नाम से मशहूर चीन, अंकल सैम यानी अमेरिका को हर मामले में टक्कर देता नजर आया है। इसकी दहशत अब अमेरिका पर भी दिखने लगी है। अमेरिका अपने मित्र देश हिंदुस्थान के नागरिकों को तो नजरअंदाज करता दिख रहा है लेकिन चीन के नागरिकों के मामले में ऐसा नहीं है। एक सरकारी वेबसाइट द्वारा जारी जानकारी के आधार पर मीडिया में चल रही खबरों की मानें तो भारतीय वीजा आवेदकों को केवल अपॉइंटमेंट लेने के लिए २ साल से अधिक के प्रतीक्षा समय की आवश्यकता होती है, जबकि चीन जैसे देशों के लिए यह समय सीमा केवल दो दिन है। अमेरिकी विदेश विभाग की वेबसाइट से पता चलता है कि विजिटर वीजा के लिए दिल्ली से आवेदन के लिए ८३३ दिनों का और मुंबई से ८४८ दिनों का अपॉइंटमेंट वेटिंग टाइम है। इसके विपरीत, बीजिंग के लिए प्रतीक्षा समय केवल २ दिन और इस्लामाबाद के लिए ४५० दिन है। छात्र वीजा के लिए दिल्ली और मुंबई के लिए प्रतीक्षा समय ४३० दिन है। हैरानी की बात यह है कि यह इस्लामाबाद के लिए केवल १ दिन है, और बीजिंग के लिए २ दिन है। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बुधवार को अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन के साथ हिंदुस्थान से वीजा आवेदनों के बैकलॉग का मुद्दा उठाया था। उन्होंने मीडिया से इस बारे में कहा, ‘मैंने अमेरिकी विदेश सचिव एंटनी ब्लिंकन को सुझाव दिया कि अगर अमेरिकी सरकार को इस मुद्दे से बेहतर तरीके से निपटने में हिंदुस्थान सरकार से कुछ मदद चाहिए तो हम उसके लिए तत्पर हैं।

 

अन्य समाचार